गौमांस तस्करी के शक में 2 लोगों को पीटा !    चौपाल निर्माण में घटिया सामग्री लगाने का आरोप !    नकदी नहीं मिली तो बंदूक ले गये चोर !    पीजीआई में कोरोनरी एंजियोप्लास्टी का लाइव ट्रांसमिशन !    गंगा स्नान कर लौट रहे युवक की चाकू मारकर हत्या !    यमुना प्रदूषण के मामले में 5 विभागों को नोटिस !    लिव-इन से जुड़वां बच्चों को जन्म देकर मां चल बसी !    हर्बल नेचर पार्क में लगी आग, 5 एकड़ क्षेत्र जला !    ड्रेन की आधी अधूरी सफाई से किसानों में रोष !    राहगीरों की राह में रोड़ा 3 एकड़ जमीन का टुकड़ा !    

योगी पर टिप्पणी करने वाले पत्रकार को जमानत

Posted On June - 12 - 2019

नयी दिल्ली, 11 जून (एजेंसी)
सुप्रीमकोर्ट ने मंगलवार को पत्रकार प्रशांत कनौजिया को तत्काल जमानत पर रिहा करने का आदेश देते हुये कहा कि स्वतंत्रता का मौलिक अधिकार पवित्र है और इससे समझौता नहीं किया जा सकता। पत्रकार प्रशांत को उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणियां करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। शीर्ष अदालत ने योगी आदित्यनाथ के बारे में प्रशांत की पोस्ट के लिये उसकी आलोचना भी की और कहा कि केस निरस्त नहीं होगा, कानून के अनुसार कार्रवाई जारी रहेगी। पीठ ने सुनवाई के दौरान कहा न्यायालय को भी सोशल मीडिया का दंश सहना पड़ता है। पीठ ने कहा, ‘कभी कभी तो हमें भी सोशल मीडिया का दंश सहना पड़ता है। कभी यह उचित होता है और कभी अनुचित, लेकिन हमें अपने अधिकारों का इस्तेमाल करना होता है।’

कोर्ट इस पत्रकार की पत्नी जगीशा अरोड़ा द्वारा दायर बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका की सुनवाई कर रहा था। इस याचिका में पत्रकार की गिरफ्तारी को चुनौती दी गयी थी।
उप्र सरकार के अतिरिक्त सॉलिसीटर जनरल विक्रमजीत बनर्जी ने कहा कि इस याचिका पर विचार नहीं किया जा सकता क्योंकि आरोपी न्यायिक हिरासत में है। इस पर पीठ ने कहा, ‘कानून बहुत स्पष्ट है। किसी भी व्यक्ति को उसकी स्वतंत्रता से वंचित नहीं किया जा सकता। अगर यह अनुच्छेद 32 के तहत याचिका है तो भी कोर्ट इस पर विचार कर सकता है। पीठ ने कहा, ‘हम उससे सहमत नहीं है जो पत्रकार ने सोशल मीडिया पर ट्वीट या पोस्ट किया। व्यक्ति सलाखों के पीछे है और यह हमें परेशान कर रहा है। उसे तत्काल जमानत पर रिहा किया जाना चाहिए।’ पीठ ने कहा कि वह इस मामले में कार्यवाही निरस्त नहीं कर रही है और यह कानून के अनुसार चलती रहेगी।
बाक्स-योगी से जुड़ा वीडियो ट्विटर और फेसबुक पर किया था साझा <B>
कनौजिया ने कथित रूप से एक वीडियो ट्विटर और फेसबुक पर साझा किया था जिसमे लखनऊ में मुख्यमंत्री कार्यालय के बाहर कुछ मीडिया संगठनों के संवाददाताओं के सामने एक महिला बात कर रही थी और उसका दावा था कि उसने आदित्यनाथ के पास शादी का प्रस्ताव भेजा था। इसके बाद लखनऊ के हजरतगंज थाने में एक सब इंसपेक्टर ने शुक्रवार की रात कनौजिया के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करायी जिसमे आरोप लगाया गया था कि आरोपी ने मुख्यमंत्री के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणियां कीं और उनकी छवि खराब करने का प्रयास किया है।


Comments Off on योगी पर टिप्पणी करने वाले पत्रकार को जमानत
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.