केंद्र तमिलनाडु में हिंदी नहीं थोप रहा : सीतारमण !    तेज रफ्तार का कहर, 9 विद्यार्थियों की मौत !    बिहार-असम में बाढ़ का कहर, अब तक 144 की मौत !    बच्चों को सिखाएं पार्टी मैनर्स !    नर को नारायण से जोड़ते नारद !    लॉर्ड्स पर जीते क्रिकेट के गॉड !    शिवतुल्य जो बोलता है, वही जप है !    हरियाली अमावस पर पंच महायोग !    पेंसिल-कॉपी का आनंद !    स्वादिष्ट भी पौष्टिक भी !    

यशोवर्धन बिड़ला जानबूझकर कर्ज न चुकाने वाला घोषित

Posted On June - 18 - 2019

नयी दिल्ली, 17 जून (एजेंसी)
सार्वजनिक क्षेत्र के यूको बैंक ने बिड़ला सूर्या लिमिटेड की ओर से 67.55 करोड़ रुपये का बकाया नहीं चुकाने के कारण यशोवर्धन बिड़ला को जानबूझकर कर्ज नहीं चुकाने वाला (विलफुल डिफाल्टर) घोषित किया है। कंपनी को यह कर्ज यूको बैंक की ओर से दिया गया है। कर्जदाताओं की समिति में भारतीय स्टेट बैंक, पंजाब नेशनल बैंक और यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया भी शामिल हैं। बैंक की ओर से वेबसाइट पर सार्वजनिक की गई सूचना के मुताबिक, बैंक ने चूककर्ता से बकाया वसूलने के लिए मुकदमा दायर किया है।
सार्वजनिक नोटिस के मुताबिक, बिड़ला सूर्या लिमिटेड को पूंजी आधारित सुविधाओं के लिए 100 करोड़ रुपये की कर्ज सीमा मंजूर की गई थी, जिसमें से ब्याज सहित 67.55 करोड़ रुपये बकाया है। यूको बैंक की नरीमन प्वाइंट स्थित कॉर्पोरेट शाखा ने कंपनी को मल्टी-क्रिस्टलाइन सौर फोटोवोल्टिक सेल के विनिर्माण के लिए यह सुविधा दी थी। नोटिस में कहा गया है, ‘बकाये का भुगतान नहीं होने पर 3 जून, 2013 को खाते को गैर-निष्पादित परिसंपत्ति (एनपीए) घोषित कर दिया गया था। कई नोटिस देने के बावजूद लेनदार ने बैंक को बकाए का भुगतान नहीं किया है। लेनदार कंपनी और उसके निदेशकों, प्रवर्तकों, गारंटरों को बैंक का कर्ज जानबूझकर कर्ज नहीं चुकाने वाला घोषित किया गया है।’
विलफुल डिफाल्टर को नहीं मिलता कर्ज
भारतीय रिजर्व बैंक के मुताबिक, एक बार जानबूझकर कर्ज नहीं चुकाने वाला घोषित होने पर लेनदार को बैंकों या वित्तीय संस्थाओं की ओर से कोई कर्ज सुविधा नहीं दी जाती है। कंपनी पर पांच साल के लिए नया उद्यम लगाने से रोक लग जाती है। इसके अलावा कर्जदाता कंपनी और उसके निदेशकों के खिलाफ आपराधिक कार्रवाई शुरू कर सकता है।


Comments Off on यशोवर्धन बिड़ला जानबूझकर कर्ज न चुकाने वाला घोषित
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.