बिहार में लू से अब तक 61 की मौत !    पंकज सांगवान की पार्थिव देह आज पहुंचने की उम्मीद !    टीचर का स्नेह भरा स्पर्श !    बाथरूम इस्तेमाल के तरीके !    मेरे पापा जी !    सुपरफूड सोया !    कार्यस्थल पर सुरक्षित माहौल !    काम का रैप ... !    पापा का प्यार !    कोने-कोने में टेक्नोलॉजी !    

फ्लैशबैक

Posted On June - 1 - 2019

हिंदी फीचर फिल्म दिल तेरा दीवाना
शा. रा.
सच ही दिल दीवाना बन गया मूवी देखने के बाद। ट्विस्ट के स्टैप्स को जिस्म की जुंबिश से मनमाफिक फ्यूज़न में बदलने वाले शम्मी कपूर की यह फिल्म चंदेक लोकप्रिय फिल्मों में से एक है जो न केवल बॉक्स ऑफिस पर सुपरहिट रही बल्कि फिल्म समालोचकों ने भी इसे सौ बटा सौ अंक देने में कंजूसी नहीं बरती। फिर महमूद की उपस्थिति ने इसमें सोने पर सुहागे का काम किया। इसमें कोई हीरोइन न भी होती तो भी शम्मी व महमूद की जोड़ी इसे कामयाब बना देती। लेकिन कथानक के कारण हीरोइन की उपस्थिति लाजि़मी हो गयी। अगर हीरोइन (माला सिन्हा) न होती तो शम्मी कपूर ‘दिल तेरा दीवाना है सनम’ सरीखे गीते किसकी शान में गाते? क्योंकि शुभा खोटे पर तो महमूद का दिल आ गया था। बहरहाल, 1962 में रिलीज यह फिल्म तमिल फिल्म ‘साबाश मीना’ की रीमेक थी। इस नाम पर 1996 में एक और फिल्म भी बनी, जिसे पहलाज निहलानी ने प्रोड्यूस किया था और इसमें सैफ अली खान व ट्विंकल खन्ना मुख्य भूमिकाओं में थे। हालांकि, साठ के दशक के बाद रंगीन फिल्में बननी शुरू हो गयी थीं लेकिन यह ब्लैक एंड व्हाइट थी। यह एक कॉमेडी फिल्म थी, जिसमें कथानक भी था, अभिनय था, उस वक्त के मशहूर नायिका व नायकों के चेहरों के साथ था शंकर जयकिशन का सुरीला संगीत। यह वह वक्त था जब इस जोड़ी द्वारा प्रोफेसर, असली नकली, एक हसीना एक दीवाना, अनपढ़ और आरती आदि फिल्मों में संगीत का तहलका मचाया जा रहा था। हालांकि, फिल्म में शम्मी और महमूद के किरदार को बराबर ही तरजीह दी गयी थी तथापि सभी गीत माला सिन्हा व शम्मी कपूर पर ही फिल्माए गए थे। महमूद का रोल उस ज़माने की फिल्मों में हीरो की टक्कर का होता था क्योंकि वह फिल्मों की कामयाबी की गारंटी होते थे। इस फिल्म में भी ऐसा ही हुआ। अपनी बेहतरीन अदाकारी के लिए उन्हें स्पोर्टिंग एक्टर का फिल्मफेयर पुरस्कार भी मिला। फिल्म की ज्यादातर शूटिंग दक्षिण में हुई। फिल्म की कहानी तो आम है लेकिन इसकी प्रेजेंटेशन कमाल की है। अप्रत्याशित हालात में हीरो हीरोइन को मिलता है तथा प्यार में पड़ जाता है लेकिन यहां भी सामाजिक मजबूरी है। हीरो अमीर है और हीरोइन गरीब, लेकिन फिर क्या हुआ? दोनों एक-दूसरे से प्यार करते हैं लेकिन बीच में विलेन भी है लेकिन कोई बात नहीं, उसका भी हल है न। सब कुछ दर्शकों की कसौटी पर खरा। मोहन (शम्मी कपूर) तथा अनोखे लाल (महमूद) फिल्म के दो मुख्य किरदार हैं। मोहन अमीर है लेकिन वह आम लोगों की तरह जीना चाहता है, जबकि अनोखेलाल अपनी गरीबी से निजात पाना चाहता है। परिस्थितियां उन्हें एक-दूसरे के स्थान पर रहने को विवश कर देती हैं। मोहन जब अनोखे लाल के यहां जाता है तो उसकी मुलाकात मालती (माला सिन्हा) से होती है जो वहां अपने अंधे बाप के साथ रहती है। जबकि अनोखे लाल मोहन बनकर कैप्टन दयाराम के यहां आ जाता है, जिसे मोहन के पिता ने तहजीब सीखने के लिए भेजा है। क्रमिक सीन के कारण फिल्म आगे बढ़ती है। प्राण की एंट्री भी होती है बतौर विलेन जो मालती (माला सिन्हा) पर फिदा है जबकि माला सिन्हा शम्मी कपूर से इश्क करती हैं। अब विलेन को दोनों कैसे डील करते हैं यह सस्पेंस फ्लैश बैक के पाठकों के लिए बना रहे तभी अच्छा है। यह फिल्म दर्शकों को हंसते-हंसते सिनेमा हॉल से वापस भेजती है। हसरत जयपुरी व शैलेंद्र के लिखे गीतों को गुनगुनाते हुए वे हॉल से बाहर निकलते हैं।
निर्माण टीम
प्रोड्यूसर व निर्देशक : बीआर पंथुलू
पटकथा : दादा मिरासी
संवाद : हसरत जयपुरी, शैलेन्द्र
संगीत : शंकर जयकिशन
सितारे : शम्मी कपूर, महमूद, माला सिन्हा, प्राण, ओम प्रकाश, मनमोहन कृष्ण, मुमताज़ बेगम, शुभा खोटे आदि
गीत
रिक्शे पे मेरे तुम आ बैठे : मुहम्मद रफी, आशा भोसले
दिल तेरा दीवाना है सनम : लता मंगेशकर, मुहम्मद रफी
धड़कने लगता है मेरा दिल : मुहम्मद रफी
मुझे कितना प्यार है तुमसे : लता मंगेशकर, मुहम्मद रफी
नज़र बचाकर चले गये वो : मुहम्मद रफी
मासूम चेहरा ये कातिल अदाएं : मुहम्मद रफी
मासूम चेहरा ये कातिल अदाएं : मुहम्मद रफी, लता
जाने-वफा जाने-जहां : मुहम्मद रफी, लता मंगेशकर


Comments Off on फ्लैशबैक
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.