पंचकूला डेरा हिंसा मामले में आरोप तय !    विजय होंगे गृह मंत्री विज के निजी सचिव !    सुखपाल खैहरा के बेटे की शादी से हीरों का हार चोरी !    व्हाट्सएप एमपी4 से हो सकती है हैकिंग !    राजनाथ ने क्रांजी युद्ध स्मारक पर दी श्रद्धांजलि !    आज भारी बारिश, बर्फबारी के आसार !    मंत्री के भतीजे की शादी में बाराती की कार ले भागे सशस्त्र लुटेरे !    आकांक्ष हत्याकांड में हरमेहताब को उम्रकैद !    पुरूषों के आंसू छलकाने में कोई शर्म नहीं : तेंदुलकर !    हरियाणा के प्रतीक ने दी महाराष्ट्र के पाटिल को पटखनी !    

पीजी मेडिकल सीट पर रुख स्पष्ट करे केंद्र

Posted On June - 18 - 2019

नयी दिल्ली, 17 जून (एजेंसी)
सुप्रीमकोर्ट ने सोमवार को केंद्र सरकार से कहा कि वह स्पष्ट करे कि डीम्ड विश्वविद्यालयों और निजी कॉलेजों में 400-500 सीटों के लिए पोस्ट ग्रेजुएट मेडिकल पाठ्यक्रमों में नामांकन की काउंसिलिंग की तारीख बढ़ा सकती है अथवा नहीं। केंद्र ने सुप्रीमकोर्ट को सूचित किया कि उसे कोई आसान हल नहीं मिल पाया है। जस्टिस दीपक गुप्ता और जस्टिस सूर्यकांत की पीठ ने अतिरिक्त सॉलिसीटर जनरल विक्रमजीत बनर्जी से पूछा कि वह हलफनामा दायर कर रुख स्पष्ट करें। बनर्जी स्वास्थ्य सेवाएं महानिदेशालय (डीजीएचएस) की तरफ से पेश हुए। पीठ देश के 1300 से अधिक शैक्षणिक संस्थानों के पंजीकृत समूह एजुकेशन प्रमोशन सोसायटी ऑफ इंडिया की तरफ से दायर याचिका पर सुनवाई कर रही थी। सोसायटी ने काउंसिलिंग आगे बढ़ाने की मांग की है ताकि 500 से अधिक सीटों पर नामांकन हो सके। याचिकाकर्ता सोसायटी की तरफ से पेश हुए वरिष्ठ अधिवक्ता मनिंदर सिंह ने कहा कि कुछ तकनीकी एवं अन्य मुद्दों पर डीम्ड विश्वविद्यालयों और कॉलेजों में मेडिकल सीट खाली रह गई थीं और इससे शिक्षण संस्थानों को काफी नुकसान हो रहा है, जिन्हें गुणवत्तापूर्ण ढांचागत निर्माण पर काफी निवेश करना पड़ता है।
उन्होंने कहा कि जो सीट व्यर्थ चली जाती है उससे छात्र और शैक्षणिक संस्थान दोनों प्रभावित होते हैं। सुप्रीमकोर्ट ने 12 जून को केंद्र सरकार से कहा था कि समस्या का आसान हल ढूंढने का प्रयास करें। अदालत ने कहा था, ‘जरूरत पड़ने पर काउंसलिंग को एक हफ्ते या संक्षिप्त समय के लिए बढ़ाया जा सकता है।’


Comments Off on पीजी मेडिकल सीट पर रुख स्पष्ट करे केंद्र
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.