दोस्ती में समझदारी भी ज़रूरी !    सहयोगियों की कार्यक्षमता को समझें !    आज का एकलव्य !    सुडोकू से बढ़ाएं बच्चों की एकाग्रता !    विद्यालय जाने की खुशी !    तंग नज़रिये की फूहड़ता !    इनसान से एक कदम आगे टेक्नोलॉजी !    महिलाएं भी कर सकती हैं श्राद्ध! !    आध्यात्मिक यात्रा में सहायक मुद्राएं !    उपवास के लिए साबूदाना व्यंजन !    

नेतृत्व पर कांग्रेस में असमंजस

Posted On June - 12 - 2019

अदिति टंडन/ट्रिन्यू
नयी दिल्ली, 11 जून
कांग्रेस में नेतृत्व को लेकर असमंजस की स्थिति बरकरार है। पार्टी गतिविधियों को लेकर न तो कार्यकर्ता और न ही नेताओं को कुछ पता है। गत 25 मई को राहुल द्वारा बतौर अध्यक्ष ‘गैर गांधी खोजने’ की बात कही जाने के बाद हर कोई अनुमान लगा रहा है कि राहुल का उत्तराधिकारी कौन होगा? एआईसीसी सूत्रों के मुताबिक ‘किसी को कोई अंदाजा नहीं है कि परिवार में अभी क्या चल रहा है’ इसका यही मतलब हुआ कि गैर गांधी अध्यक्ष पर भी कोई नाम अगर आएगा तो पहले परिवार से ही आएगा फिर उस पर पार्टी की राय ली जाएगी।
हालांकि इस बात के संकेत नहीं हैं कि राहुल गांधी के उत्तराधिकारी को लेकर कोई चर्चा चल रही हो। 25 मई को हुई सीडब्ल्यूसी मीटिंग के बाद राहुल गांधी ने खुद को बंद कमरे में बैठक करने में ही सीमित कर लिया है। एक दिन पहले उन्होंने पंजाब के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू से मुलाकात की। बंद कमरे में बैठक से इतर उन्होंने एक तो कांग्रेस संसदीय बोर्ड की बैठक को संबोधित किया था। इसके अलावा वह यूपीए चेयरपर्सन और अपनी माताजी सोनिया गांधी के आवास पर चीनी प्रतिनिधिमंडल से मिले। अपने संसदीय क्षेत्र केरल के वायनाड में भी वह गये। सूत्रों का कहना है कि पार्टी के पास सीमित विकल्प हैं। एक वरिष्ठ नेता ने कहा, ‘कुछ नेताओं के साथ काम करते हुए वह पार्टी अध्यक्ष बने रह सकते हैं या कोई पार्टी प्रमुख हो सकता है और सीडब्ल्यूसी राहुल को सांगठिक बदलाव के लिए अधिकृत कर सकती है। एक बात तय है कि सोनिया गांधी की भूमिका बड़ी और स्पष्ट है।’ यहां बता दें कि सोनिया गांधी बुधवार को अपने संसदीय क्षेत्र रायबरेली में लोगों को धन्यवाद देने जाएंगी।


Comments Off on नेतृत्व पर कांग्रेस में असमंजस
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.