गौमांस तस्करी के शक में 2 लोगों को पीटा !    चौपाल निर्माण में घटिया सामग्री लगाने का आरोप !    नकदी नहीं मिली तो बंदूक ले गये चोर !    पीजीआई में कोरोनरी एंजियोप्लास्टी का लाइव ट्रांसमिशन !    गंगा स्नान कर लौट रहे युवक की चाकू मारकर हत्या !    यमुना प्रदूषण के मामले में 5 विभागों को नोटिस !    लिव-इन से जुड़वां बच्चों को जन्म देकर मां चल बसी !    हर्बल नेचर पार्क में लगी आग, 5 एकड़ क्षेत्र जला !    ड्रेन की आधी अधूरी सफाई से किसानों में रोष !    राहगीरों की राह में रोड़ा 3 एकड़ जमीन का टुकड़ा !    

तरनतारन के पूर्व डीएसपी के खिलाफ आरोप तय

Posted On June - 12 - 2019

मोहाली, 11 जून (निस)
मोहाली की सीबीआई स्पेशल कोर्ट में बुधवार को तरनतारन के पूर्व डीएसपी (डिटेक्शन) गुरमीत सिंह के खिलाफ 1992 में 6 व्यक्तियों के अपहरण के मामले में चार्ज फ्रेम कर दिए गये। अदालत ने गुरमीत सिंह के खिलाफ आईपीसी की धारा 364 व 120बी के तहत आरोप तय किए। गुरमीत सिंह अब रिटायर हो चुका है।
यह मामला सुरजीत कौर निवासी पंडरी रमाना, जिला तरनतारन की शिकायत पर दर्ज किया गया था जिसमें उसने कहा था कि अगस्त 1992 में उनके पति संत चरण सिंह सहित उनके 6 रिश्तेदारों काे पंजाब पुलिस अलग-अलग जगहों से अलग-अलग तारीखों पर जबरन उठा ले गई था और उनका आज तक कुछ पता नहीं चला है। यह मामला 1997 में पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट के निर्देशों पर सीबीआई को ट्रांसफर किया गया था। सुरजीत कौर ने आरोप लगाया था कि उसके जीजा गुरदेव सिंह को पंजाब पुलिस ने 20 अगस्त, 1992 को यूपी के गांव सहरबा, जिला सीतापुर से उठाया था।
उल्लेखनीय है कि संत चरनजीत सिंह, केसर सिंह, मेजर सिंह, गुरदेव सिंह चारों सगे भाई हैं, जबकि सुरजीत कौर का भाई गुरमेज सिंह व उसका बेटा बलविंदर सिंह, जोकि कभी पंजाब पुलिस में कार्यरत था, कभी कभार संत चरन सिंह की गाड़ी चलाता था। संत चरन सिंह व मेजर सिंह डोंग कार सेवा गुरुद्वारा साहिब (यूपी) में सेवादार थे। जांच में सामने आया कि गुरदेव सिंह व उसके मामा जंगा सिंह एक कोर्ट केस के सिलसिले में यूपी गए थे और 19 अगस्त, 1992 की रात बलदेव सिंह के घर पर रुके थे। 20 अगस्त, 1992 को लगभग 6 बजे पंजाब पुलिस की एक टीम तरनतारन के डीएसपी गुरमीत सिंह की अगुवाई में बलदेव सिंह के घर पहुंची और सभी को साथ लेकर तरनतारन आ गई। तब से उनका कुछ पता नहीं चला।


Comments Off on तरनतारन के पूर्व डीएसपी के खिलाफ आरोप तय
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.