गौमांस तस्करी के शक में 2 लोगों को पीटा !    चौपाल निर्माण में घटिया सामग्री लगाने का आरोप !    नकदी नहीं मिली तो बंदूक ले गये चोर !    पीजीआई में कोरोनरी एंजियोप्लास्टी का लाइव ट्रांसमिशन !    गंगा स्नान कर लौट रहे युवक की चाकू मारकर हत्या !    यमुना प्रदूषण के मामले में 5 विभागों को नोटिस !    लिव-इन से जुड़वां बच्चों को जन्म देकर मां चल बसी !    हर्बल नेचर पार्क में लगी आग, 5 एकड़ क्षेत्र जला !    ड्रेन की आधी अधूरी सफाई से किसानों में रोष !    राहगीरों की राह में रोड़ा 3 एकड़ जमीन का टुकड़ा !    

चुनौतियां पसंद हैं

Posted On June - 8 - 2019

दिनेश जाला
प्रिया ने कई बेहतरीन मराठी फिल्मों के लिये बेस्ट एक्ट्रेस का स्क्रीन अवॉर्ड और मराठी फिल्मफेयर अवॉर्ड भी हासिल किया है। पेश है प्रिया से बातचीत के कुछ अंश :-
‘सिटी ऑफ ड्रीम’ में आपका किरदार कैसा है?
इस वेबसीरीज़ में मैं पूर्णिमा गायकवाड़ की भूमिका में हूं। उसमें जो क्वालिटी है, वह खुद के लिए लड़ना चाहती है। वही क्वालिटी मुझ में भी है, लेकिन बस मेरी लाइफ में ऐसी कोई सिचुएशन नहीं आई कि मुझे बाहर जाकर इतना लड़ना पड़े।
उसमें एक डायलॉग से ज़रूर सीखने को मिला है कि जब ताक़तवर हो तो ये दिखाओ कि आप ताक़तवर नहीं हो। इस किरदार का शानदार पहलू है कि उसमें बहुत ठहराव है। वह बोलती बहुत कम है और करती ज्यादा है।
इस वेब सीरीज़ को हम फैमिली के साथ देख सकते हैं?
मुझे ऐसा नहीं लगता कि वेब सीरीज फैमिली के साथ नहीं देखी जा सकती। आप वेब सीरीज़ मोबाइल में देखते हैं, फैमिली के साथ बैठकर तो नहीं देखते। आज जिस तरह का कंटेंट बन रहा है वह वक्त की मांग है। मुझे लगता है कि जो कहानी राइटर लिखते हैं वह समाज का ही हिस्सा होती है। यह सब समाज में, आसपास होता है, हम जो देखते हैं, जीते हैं, उसी में से कहानियां बनती हैं। ज्यादातर कहानियां हमारी निजी जिंदगी से जुड़ी होती हैं या हमने देखी होती हैं।
वेब सीरीज़ करने के बारे में क्यों सोचा?
दरअसल ऑनलाइन प्लेटफॉर्म का तेज़ी से विस्तार हो रहा है। मैंने जब ऑडिशन दिया, बहुत एक्साइटेड थीं। मैं नागेश कुकुनूर डायरेक्टर की बड़ी फैन रही हूं। उनकी हर फिल्म देखी है। मुझे अच्छा लगता है जब उनके कैरेक्टर बात करते हैं, कैरेक्टर इक्स्पोज़ होते हैं। कहानी बहुत ही अच्छी लगती है। फिल्म में वह रिलेशनशिप बहुत अच्छी तरह से दिखाते हैं।
मुझे उनकी राइटिंग डायरेक्शन बहुत अच्छी लगती है। जब मुझे पता चला कि वह डायरेक्ट करने वाले हैं और सीरीज़ उन्होंने ही लिखी है तो मेेरे पास इसे न करने का कोई कारण नहीं था।
आपके हिसाब से पॉलिटिकल लीडर कैसा होना चाहिए?
मेरे हिसाब से पॉलिटिकल लीडर वही होना चाहिए जो काबिल है। हर पॉलिटिकल लीडर में कुछ न कुछ कमियां और अच्छाइयां हैं। इस सवाल का जवाब देने के लिए थोड़ा सोचना पड़ेगा।
किस जॉनर की वेब सीरीज़ पसंद है?
एनीथिंग, कोई भी रोल जो चैलेंज करे। ऐसा नहीं है कि कोई बोले कि अरे ये तो प्रिया कर लेगी, ये मुझे नहीं चाहिए। मुझे हर बार अपने आपको नये तरीके से, एक नई स्टोरी में, जो मैंने की नहीं, सामने लाना है। मुझे हर वह काम करना है जो मुझे चैलेंज करे।
आप कभी अपने संघर्ष को याद करती हैं?
मेरा संघर्ष अभी भी जारी है और वह लाइफ के एंड तक रहेगा। संघर्ष का रूप बदलता रहता है पहले जो था वह अब नहीं रहता। मराठी इंडस्ट्री में दर्शक पहचानते हैं, अगर, हिंदी, बंगाली, मलयालम में काम करना है, जहां लोग जानते नहीं, वहां अच्छा काम करने के लिए संघर्ष करना पड़ेगा।


Comments Off on चुनौतियां पसंद हैं
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.