जादू दिखाने हुगली में उतरा जादूगर डूबा !    प्राकृतिक स्वच्छता के लिए यज्ञ जरूरी : आचार्य देवव्रत !    मानवाधिकार आयोग का स्वास्थ्य मंत्रालय, बिहार सरकार को नोटिस !    बांग्लादेश ने विंडीज़ को 7 विकेट से रौंदा, साकिब का शतक !    कोर्ट ने नयी याचिकाओं पर केंद्र से मांगा जवाब !    पीजी मेडिकल सीट पर रुख स्पष्ट करे केंद्र !    नहीं दिखे कई दिग्गज नये चेहरे भी चमके !    हाफ मैराथन विजेता ज्योति डोप परीक्षण में फेल !    हांगकांग के प्रमुख कार्यकर्ता जोशुआ वोंग जेल से रिहा !    कम हुए परमाणु हथियार, धार तेज !    

एकदा

Posted On June - 14 - 2019

देने का संस्कार

एक संत ने एक द्वार पर दस्तक दी और आवाज लगाई-भिक्षां देहि। एक नन्ही बालिका बाहर आई और बोली-बाबा, हम गरीब हैं, हमारे पास देने को कुछ नहीं है। संत बोले-बेटी, मना मत कर, अपने आंगन की धूल ही दे दे। लड़की ने एक मुट्ठी धूल उठाई और भिक्षा पात्र में डाल दी। शिष्य ने पूछा-गुरु जी, धूल भी कोई भिक्षा है? आपने धूल देने को क्यों कहा? संत बोले-बेटे, अगर वह आज ना कह देती तो फिर कभी नहीं दे पाती। आज धूल दी तो क्या हुआ, देने का संस्कार तो पड़ गया। आज धूल दी है, कल फल-फूल भी देगी।

प्रस्तुति : निशा सहगल


Comments Off on एकदा
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.