सनी देओल, करिश्मा ने रेलवे कोर्ट के फैसले को दी चुनौती !    मेट्रो की तारीफ पर अमिताभ के खिलाफ प्रदर्शन !    तेजस में रक्षा मंत्री की पहली उड़ान, 2 मिनट खुद उड़ाया !    अयोध्या पर चुप रहें बयान बहादुर !    पीएम के प्रति ‘अपमानजनक' शब्द राजद्रोह नहीं !    अस्त्र मिसाइल के 5 सफल परीक्षण !    एनडीआरएफ में अब महिलाएं भी !    जेल में न कुर्सी मिली, न तकिया ; कम हुआ वजन !    दिल्ली में नहीं चलीं टैक्सी, ऑटो रिक्शा !    सीएम पद के लिए चेहरा पेश नहीं करेगी कांग्रेस: कैप्टन यादव !    

एकदा

Posted On June - 13 - 2019

फलों का स्वभाव

एक समय बोधिसत्व ने मृग योनि में जन्म लिया। उनका जीवन वन में विचरण करते और वन में उपजे फलों को खाकर गुजरता था। वन में वह एक वृक्ष विशेष के फल ही खाते थे जो उनको अति प्रिय थे। एक शिकारी वहां नित्यप्रति आता और फलदार वृक्षों पर मचान बांधकर बैठता था और वृक्ष के नीचे जो मृग फल खाने आते, उनका शिकार करके अपना जीवनयापन करता था। एक दिन उसने उस विशेष वृक्ष के नीचे बोधिसत्व के पदचिन्हों को देखा। शिकारी ने इसी मृग का शिकार करने की सोची और अगले दिन सुबह-सुबह उस वृक्ष पर मचान बना कर बैठ गया। इधर बोधिसत्व भी भूख लगने पर अपने प्रिय वृक्ष की ओर चले। उनकी अंतर्दृष्टि ने कुछ खतरे का आभास दिया तो वह वृक्ष से कुछ दूर खड़े हो गए ताकि किसी शिकारी आदि का खतरा न रहे। मृग को निकट न आते देख शिकारी ने ऊपर से ही उनके पास फल फेंकने प्रारम्भ कर दिए ताकि मृग फल खाते हुए वृक्ष के निकट आ जाए। बोधिसत्व समझ गए कि ऊपर अवश्य ही शिकारी बैठा है। वह बोल उठे-हे वृक्ष देवता, फलों का स्वभाव तो सीधे नीचे गिरना होता है। पर आज अपना स्वभाव छोड़कर इतनी दूर मेरे पास गिरा रहे हो। आपने अपना स्वभाव छोड़ दिया तो मैं भी अपना नियम छोड़ रहा हूं और आज से किसी और वृक्ष के नीचे अपना आहार खोजूंगा।

प्रस्तुति : मुकेश जैन


Comments Off on एकदा
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.