दिल्ली की पूर्व सीएम शीला दीक्षित का निधन !    5 मिनट में फिट !    बीमारियां भी लाता है मानसून !    तापसी की 'सस्ती पब्लिसिटी' !    सिल्वर स्क्रीन !    फ्लैशबैक !    सर्वश्रेष्ठ देने के लिए तैयार !    खबर है !    हेलो हाॅलीवुड !    हरप्रीत सिद्धू फिर एसटीएफ प्रमुख नियुक्त !    

उत्पादकों को नहीं मिल रहे सही दाम, उपभोक्ताओं को रेट में कमी नहीं

Posted On June - 17 - 2019

जितेंद्र अग्रवाल/हप्र
अम्बाला शहर, 16 जून
दूध का उत्पादन कम होने के कारण वीटा ने कई रुट पर दूध एकत्र करने का काम फिलहाल स्थगित कर दिया है। पहले जहां 713 सोसायटियों से दूध एकत्र करने का काम किया जाता था वहीं अब 688 से दूध लिया जा रहा है। दूध उत्पादन में आई भारी कमी के बावजूद अम्बाला डिस्टि्रक्ट को-ऑपरेटिव मिल्क प्रोडयूसर यूनियन न तो अपने दूध उत्पादकों को उचित दाम ही दे पा रहा है और न ही उपभोक्ताओं को सस्ते दाम पर दूध उपलब्ध करवा पा रहा है।
वीटा को दूध उत्पादकों से मिलने वाले दूध की आपूर्ति में लगभग 40 से 50 प्रतिशत की कमी आ चुकी है, जबकि मांग करीब 7 प्रतिशत तक बढ़ चुकी है। अप्रैल 2019 में आवक 1.10 लाख, मई में 81 हजार और जून में यह 72 हजार लीटर रही जबकि वर्तमान वर्ष के अप्रैल में आवक कम होकर 95 हजार, मई में 66 हजार तथा जून में मात्र 20 हजार लीटर प्रतिदिन ही रह गई। तो अभी हाल ही में वीटा प्लांट अम्बाला ने दूध उत्पादकों के लिए दूध का दाम 5.60 रुपये बढ़ाकर 5.80 रुपये प्रति फैट कर दिया है लेकिन खुदरा मूल्यों में फिलहाल कोई परिवर्तन नहीं किया गया। जिस दर पर वीटा प्लांट दूध खरीद कर रहा है, उस हिसाब से भी दूध के खुदरा भाव काफी कम होने चाहिए लेकिन वह इसी का दावा कर रहा है कि उसने दूध उत्पादन में आई कमी, उत्पादकों के लिए बढ़ाए गए दामों के बावजूद खुदरा दाम नहीं बढ़ाए हैं।
वीटा द्वारा रिटेल भाव कम नहीं किए जाने के कारण अन्य प्रतिस्पर्धी ब्रांड और निजी डेरी संचालक भी दाम घटाने को तैयार नहीं हैं। उनकी मुनाफाखोरी आम उपभोक्ताओं पर भारी पड़ रही है। बाजार की हालत यह हो गई है कि कई निजी डेरी संचालक तो वीटा से दूध लेकर और उसका ताजा दूध के साथ मिश्रण बनाकर महंगे दाम में डेरी का दूध बताकर बेचने से भी परहेज नहीं कर रहे।

वीटा के दूध की कीमतें
फिलहाल वीटा गोल्ड के नाम से फुल क्रीम दूध का रिटेल भाव 52 रुपये प्रति लीटर है, इसमें 6 फैट का दावा वीटा करती है। उसके बाद वीटा शक्ति के नाम से 4.5 फैट का दूध रिटेल में 46 रुपये प्रति लीटर, वीटा ताजा के नाम से 3 फैट का दूध 42 रुपये और वीटा स्मार्ट के नाम से 1.5 फैट का दूध 36 रुपये प्रति लीटर उपभोक्ताओं को दिया जा रहा है।
जबकि निजी डेरी संचालक 2 से 4 फैट तक का दूध ही 55 रुपये से 60 रुपये प्रति लीटर बेचकर भारी मुनाफा कमा रहे हैं। चूंकि इन गर्मियों में वीटा ने रिटेल दाम नहीं बढ़ाए इसलिए निजी डेरी संचालक भी खुदरा दाम नहीं बढ़ा पाए। इसके विपरित वीटा सहकारी समिति अम्बाला में दूध उत्पादक किसानों से काफी सस्ता खरीद रही है। फिलहाल दूध उत्पादक किसानों से वीटा 5.80 रुपये प्रति फैट के हिसाब से दूध खरीद रही है।

दूध की आवक 50 फीसदी घटी
”दूध की आवक में इन दिनों 50 प्रतिशत गिरावट दर्ज की जा रही है। उत्पादकों को 5.80 रुपये प्रति फैट की दर से दाम दिए जा रहे हैं जो संभव है सबसे ज्यादा हैं, साथ ही 5 रुपये प्रति किलो की दर से मुख्यमंत्री अनुदान सीधे खातों में दिया जा रहा है। फिलहाल दूध के दाम बढ़ाए नहीं गए हैं, लेकिन निकट भविष्य में इन्हें बढ़ाया भी जा सकता है। ”
-वाईपी सिंह, सीईओ, वीटा प्लांट अम्बाला


Comments Off on उत्पादकों को नहीं मिल रहे सही दाम, उपभोक्ताओं को रेट में कमी नहीं
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.