बिहार में लू से अब तक 61 की मौत !    पंकज सांगवान की पार्थिव देह आज पहुंचने की उम्मीद !    टीचर का स्नेह भरा स्पर्श !    बाथरूम इस्तेमाल के तरीके !    मेरे पापा जी !    सुपरफूड सोया !    कार्यस्थल पर सुरक्षित माहौल !    काम का रैप ... !    पापा का प्यार !    कोने-कोने में टेक्नोलॉजी !    

अनोखे रिकॉर्ड

Posted On June - 2 - 2019

धर्मवीर दुग्गल
क्रिकेट का महाकुंभ माने जाने वाले क्रिकेट विश्व कप 2019 का आयोजन 14 जुलाई तक इंगलैंड में होना है, यह पांचवां ऐसा मौका है जब क्रिकेट विश्व कप इंगलैंड की धरती पर खेला जा रहा है। पिछले खेले गए 11 विश्व कपों में 1999, 2003 व 2007 में ऑस्ट्रेलिया ने लगातार तीन विश्व कप जीत कर अनोखी हैट्रिक बनायी। विश्व कप क्रिकेट के रोचक इतिहास में चैंपियनों के चैंपियन ‘कंगारू’ टीम की बादशाहत हमेशा से ही कायम रही है। पांच विश्व कप जीत कर ऑस्ट्रेलियाई टीम ने अपना सिक्का इस कदर जमाया है कि इस का खौफ इस 12वें विश्व कप में भी देखने को मिलेगा।
विश्व कप क्रिकेट के 11 संस्करणों में अब तक बने रोचक कीर्तिमानों व रोचक जानकारियों की यादों को हम इस बार फिर से ताजा कर रहे हैं।
पहला क्रिकेट विश्व कप मैच 7 जून, 1975 को भारत व इंगलैंड के बीच एेतिहासिक लाडर्स के मैदान पर खेला गया। इंगलैंड ने विश्व कप क्रिकेट इतिहास का पहला टॉस जीता। विश्व कप क्रिकेट इतिहास का पहला आेवर भारत के मध्यम तेज गति के गेंदबाज मदनलाल ने फेंका व पहली गेंद का सामना इंगलैंड के सलामी बल्लेबाज जे. जैमसन ने किया व पहला रन व पहला चौका भी उनके बल्ले से निकला।
विश्व कप क्रिकेट इतिहास का सबसे पहला विकेट लेने का श्रेय मिला टीम इंडिया के गेंदबाज मोहिन्दर अमरनाथ को, जब उन्होंने इंगलैंड के सलामी बल्लेबाज जेमसन को कप्तान वेंकट राघवन के हाथों लपकवा कर पैवेलियन का रास्ता दिखाया। वेंकटराघवन ने विश्व कप क्रिकेट का पहला कैच पकड़ा। इंगलैंड के बल्लेबाज कीथ फ्लैचर ने इसी पहले विश्व कप मैच में भारत के खिलाफ 107 गेंदें खेल कर चार चौकों व एक छक्के की मदद से 68 रन बनाये। यह विश्व कप क्रिकेट इतिहास का सबसे पहला अर्धशतक था, विश्व कप क्रिकेट में सबसे पहला छक्का भी इसी मैच में कीथ के बल्ले से लगा। इंगलैंड के सलामी बल्लेबाज डेनिस एमिस ने विश्व कप क्रिकेट इतिहास का सबसे पहला शतक जड़ा। उन्होंने 7 जून, 1975 को भारत के खिलाफ लार्ड्स में 147 गेंदें खेल कर 18 चौकों की मदद से ताबड़ताेड़ 137 रनों की एक यादगार शतकीय पारी खेली। इसी पारी की बदौलत एमिस को विश्व कप क्रिकेट इतिहास के सबसे पहले मैन ऑफ द मैच के पुरस्कार से नवाजा गया। 1975 के पहले विश्व कप में भारत के सलामी बल्लेबाज सुनील गावस्कर ने इंगलैंड के खिलाफ लार्ड्स में शुरू से लेकर अंत तक पूरे 60 ओवर तक बल्लेबाजी की, वे 36 रन बना कर नाटआउट रहे। 1975 से लेकर 1983 तक विश्व कप के सभी मैच 60 ओवर के खेले गए, लेकिन 1987 रिलायंस विश्व कप में सभी मैच 50 ओवर के कर दिये गये। 1975 से लेकर 1987 तक विश्व कप के सभी मैचों में लाल रंग की गेंदों का इस्तेमाल हुआ। 1992 में पांचवें विश्व कप में पहली बार सभी मैच सफेद गेंद से खेले गये। इस विश्व कप में पहली बार सभी खिलाड़ियों ने रंगीन ड्रैस पहनी व पहली बार खिलाड़ियों की रंगदार जर्सियों पर उनके नाम लिखे गये। 1996 में खेले गए छठे विश्व कप में पहली बार थर्ड अंपायर की भूमिका शुरू हुई। विश्व कप क्रिकेट में मैन ऑफ द सीरीज़ अवॉर्ड देने का सिलसिला 1992 में खेले गए पांचवें विश्व कप में शुरू हुआ।
अनोखा पारिवारिक रिकार्ड
क्रिकेट विश्व कप इतिहास में ऐसा दो बार हुआ है जब एक टीम में तीन सगे भाई किसी एक पारी में इकट्ठे खेले। न्यूजीलैंड के बैरी हेडली, रिचर्ड हेडली व डेल हेडली 1975 विश्व कप में इंगलैंड के खिलाफ नाटिंघम में खेले। केन्या के केनेडी ओटिएनो ओबुया, डेविड ओबुया व कोलिन ओबुया 2003 विश्व कप में कनाडा के खिलाफ केपटाउन में खेले।
विश्व कप में दो देशों का प्रतिनिधित्व
केपलर वैसल्स दुनिया के एकमात्र ऐसे क्रिकेटर हैं जिन्हें विश्व कप क्रिकेट इतिहास में दो देशों के लिए खेलने का मौका मिला। 1983 विश्व कप में उन्हाेंने तीन मैच आस्ट्रेलिया के लिए खेले व 1992 विश्व कप में उन्होंने 9 मैच द. अफ्रीका के लिए खेले।
बाप-बेटे की अनोखी दास्तान
1975 में इंगलैंड में खेले गए पहले विश्व कप में डोनाल्ड प्रिंगल पूर्वी अफ्रीका के लिए खेले व उनका बेटा डेरक प्रिंगल 1987 व 1992 विश्व कप में इंगलैंड के लिए खेला।
पांच भाइयों की जोड़ियां
1996 में खेले गए पांचवें विश्व कप में पांच भाइयों की जोड़ियां खेलीं।
सबसे बड़ी उम्र के खिलाड़ी
नीदरलैंड के नोर्लन क्लार्क 1996 विश्व कप के दौरान 5 मार्च को जब द. अफ्रीका के खिलाफ रावलपिंडी में मैच खेलने उतरे तो इनकी उम्र 47 वर्ष व 247 दिन की थी, जो विश्व कप क्रिकेट इतिहास में एक अनोखा रिकॉर्ड है।
6 लगातार गेंदों पर 6 छक्के
2007 में वेस्टइंडीज में खेले गए नवें विश्व कप में द. अफ्रीका के सलामी बल्लेबाज हर्षल गिब्स ने नीदरलैंड के खिलाफ सेंट किट्स के मैदान पर डान वांगबंग के एक ओवर की सभी छह गेंदों पर छह गगनचुंबी छक्के जड़ कर इतिहास रच डाला। इस ओवर की चार गेंदें तो स्टेडियम के पार सड़क पर जा गिरीं।
कोच बाब वूल्मर की रहस्यमयी मौत
2007 में ही वेस्टइंडीज में खेले गए नवें विश्व कप में पाकिस्तान के कोच बाब वूल्मर की रहस्यमयी परिस्थितियों में होटल में एक कमरे में मौत हो गई, जो एक राज रहा। इससे अभी तक पर्दा नहीं उठ पाया है। 1992 में पहली बार, 1992 में खेले गए पांचवें विश्व कप में पहली बार कुछ मैच फ्लड लाइट में खेले गए व पहली बार ब्लैक साइड स्क्रीन का इस्तेमाल किया गया। पारी में पांच विकेट, ऑस्ट्रेलिया के तेज गेंदबाज डेनिस लिली विश्व कप क्रिकेट इतिहास में पारी में पांच विकेट चटखाने वाले विश्व के पहले गेंदबाज बने। उन्होंने 1975 विश्व कप में पाकिस्तान के खिलाफ लीड्स में 34 रन देकर पांच विकेट ली।
सबसे अधिक चौके
मास्टर ब्लास्टर तेंदुलकर ने विश्व कप क्रिकेट में 45 मैच खेल कर सबसे अधिक 241 चौके जमाये हैं। सबसे अधिक 6 विश्व कप शतक जड़ने का विश्व रिकॉर्ड उनके नाम है। विश्व कप क्रिकेट में सबसे अधिक 15 अर्धशतक भी उन्हाेंने बनाये हैं।
सबसे अधिक छक्के
विश्व कप क्रिकेट इतिहास में सबसे अधिक छक्के ठोकने का विश्व िरकार्ड दो बल्लेबाजों के नाम दर्ज है : द. अफ्रीका के ए.बी. डिविलियर्स ने 23 मैचों में 37 छक्के व वेस्टइंडीज के क्रिस गेल ने भी 26 मैचों में 37 छक्के जड़े हैं।
विश्व कप में दो हैट्रिक
विश्व कप क्रिकेट इतिहास में 9 गेंदबाजों ने हैट्रिक बनायी है। श्रीलंका के लसिथ मलिंगा एकमात्र ऐसे गेंदबाज हैं, जो दो बार विश्व कप क्रिकेट में हैट्रिक बना चुके हैं। मलिंगा विश्व कप क्रिकेट में एक ओवर में चार गेंदों पर चार विकेट चटखाने का अनोखा विश्व िरकॉर्ड बना चुके हैं। उन्होंने 2007 में द. अफ्रीका के खिलाफ गुयाना में सुपर-8 के एक मैच में चार गेंदों पर चार विकेट चटखा कर रिकॉर्ड बनाया।
टीम इंडिया का पहला शतक
1983 में इंगलैंड में खेले गए तीसरे विश्व कप में भारत के हरफनमौला कपिल देव ने जिम्बाब्वे के खिलाफ टन-ब्रिज वैल्स में 138 गेंदों पर दनदनाते 16 चौकों व 6 गगनचुंबी छक्कों की मदद से 175 नाबाद रनों की एक यादगार शतकीय पारी खेली थी। ज्ञात रहे कपिल देव का यह शतक भारत के किसी भी बल्लेबाज़ द्वारा एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय मैच में पहला शतक था।


Comments Off on अनोखे रिकॉर्ड
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.