आधी आबादी में उत्साह घूंघट के साथ मतदान !    नाबालिग से रेप के मुख्य आरोपी को भेजा जेल !    कर्णी सिंह रेंज पर भिड़े निशानेबाज !    विवाहिता की मौत सास-ससुर और पति गिरफ्तार !    पंजाब में 70, हिमाचल में 69 फीसदी मतदान !    देश के लिए जेल गए थे सावरकर, मोदी की तारीफ !    संसद का शीतकालीन सत्र 18 नवंबर से, हंगामे के आसार !    2 पर ढाई लाख का इनाम !    परिणामों पर विचार के बाद दें फैसला !    देशभर में बैंकों की आज हड़ताल !    

चीन की चेतावनी से ट्रंप बेअसर, शेयर गिरे

Posted On May - 15 - 2019

बीजिंग में मंगलवार को चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग से मुलाकात करते श्रीलंकाई राष्ट्रपति मैत्रीपाला। – प्रेट्र

वॉशिंगटन, 14 मई (एजेंसी)
अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप चीन से आयात होने वाले उत्पादों पर भारी शुल्क लगाने के अपने फैसले पर कायम हैं। ट्रंप के इस कदम के जवाब में चीन ने भी जवाबी शुल्क लगाने की बात कही है। दोनों देश के बीच व्यापार मोर्चे पर गतिरोध गहराने की आशंका से अमेरिकी शेयर बाजारों में भारी गिरावट आई। ट्रंप ने व्हाइट हाउस में संवाददाताओं को बताया, ‘व्यापार मोर्चे पर कुछ जवाबी कार्रवाई हो सकती है लेकिन तुलनात्मक रूप से यह काफी नहीं हो सकता।’ राष्ट्रपति ने पिछले शुक्रवार को चीन से आने वाले करीब 200 अरब डॉलर के उत्पादों पर आयात शुल्क को 10 से बढ़ाकर 25 प्रतिशत कर दिया था। उन्होंने यह भी कहा कि शेष बचे 300 अरब डॉलर के उत्पादों पर भी इसी तरह का शुल्क लगाने की प्रक्रिया शुरू की जा चुकी है।
‘सीपीईसी के विरोधियों की पाकिस्तान में दबाई जाती है आवाज’
अमेरिका में पूर्ववर्ती ओबामा प्रशासन की एक अधिकारी ने कहा कि पाकिस्तानी लोग और मीडिया ‘चीन पाकिस्तान आर्थिक गलियारे’ (सीपीईसी) के खिलाफ बोलने से ‘डरते’ हैं क्योंकि इसकी आलोचना करने वाली आवाजों को राष्ट्र विरोधी बताकर दबाया जा रहा है। पाकिस्तान के बलूचिस्तान में ग्वादर बंदरगाह को चीन के शिंजियांग प्रांत से जोड़ने वाली 60 अरब अमेरिकी डॉलर की लागत वाली सीपीईसी, ‘बेल्ट एंड रोड इनिशिएटिव'(बीआरआई) की अहम परियोजना है। चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने 2013 में सत्ता में आने के बाद बीआरआई की शुरुआत की थी। ‘जॉन्स हॉप्किंस यूनिवर्सिटी स्कूल’ की शमीला चौधरी ने कांग्रेस में अमेरिकी सांसदों से कहा कि बेहद स्थानीय स्तर पर जो लोग सीपीईसी की आलोचना करते हैं, उन्हें अक्सर आतंकवादी करार दे दिया जाता है।

शी और पुतिन से जून में मिलेंगे अमेरिकी राष्ट्रपति
अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा है कि वह जापान में अगले महीने होने वाले जी-20 शिखर सम्मेलन के इतर अपने चीनी समकक्ष शी जिनपिंग और रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से मुलाकात करेंगे। साथ ही वह भारत के नये पीएम से भी मिलेंगे। 23 मई को लोकसभा चुनाव परिणाम घोषित होने के बाद यह भारत के प्रधानमंत्री और ट्रंप के बीच मुलाकात का पहला मौका होगा। हालांकि ट्रंप ने अपने ओवल कार्यालय में मीडिया के साथ बातचीत के दौरान जी-20 सम्मेलन के इतर शी और पुतिन के अलावा किसी और नेता से मुलाकात का जिक्र नहीं किया।

इस बीच, ट्रंप ने अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ की पुतिन से मुलाकात की पूर्व संध्या पर सोमवार को कहा कि अमेरिका और रूस के बीच अच्छे संबंध होना उचित है। ट्रंप ने हाल में पुतिन से फोन पर लंबी-चौड़ी बातचीत की थी।

 


Comments Off on चीन की चेतावनी से ट्रंप बेअसर, शेयर गिरे
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.