सनी देओल, करिश्मा ने रेलवे कोर्ट के फैसले को दी चुनौती !    मेट्रो की तारीफ पर अमिताभ के खिलाफ प्रदर्शन !    तेजस में रक्षा मंत्री की पहली उड़ान, 2 मिनट खुद उड़ाया !    अयोध्या पर चुप रहें बयान बहादुर !    पीएम के प्रति ‘अपमानजनक' शब्द राजद्रोह नहीं !    अस्त्र मिसाइल के 5 सफल परीक्षण !    एनडीआरएफ में अब महिलाएं भी !    जेल में न कुर्सी मिली, न तकिया ; कम हुआ वजन !    दिल्ली में नहीं चलीं टैक्सी, ऑटो रिक्शा !    सीएम पद के लिए चेहरा पेश नहीं करेगी कांग्रेस: कैप्टन यादव !    

6 अप्रैल को हिंदू नव वर्ष

Posted On April - 1 - 2019

‘परिधावी’ संवत‍्

राजा शनि, मंत्री सूर्य

मदन गुप्ता सपाटू
पेड़ों पर नये पत्ते। पौधों पर खिले फूल। बदलता मौसम। चैत्र में प्रकृति मानो नयी हो उठती है। इसी दौरान चैत्र मास की शुक्ल प्रतिपदा से शुरू होता है हिंदू नव वर्ष। इस नये साल के साथ ही शुरू होते हैं नवरात्र। मान्यता है कि इसी दिन भगवान ब्रह्मा ने सृष्टि के सृजन की शुरुआत की थी। इस बार 6 अप्रैल से शुरू हो रहे हिंदू नव वर्ष यानी संवत‍् 2076 का नाम ‘परिधावी’ है। इस संवत‍्के राजा शनि होंगे और मंत्री सूर्य। यह दोनों परस्पर विरोधी ग्रह हैं। वहीं, बीच-बीच में सभी ग्रह राहु-केतु के मध्य आ जाने से कालसर्प योग भी बनेगा। संवत‍्के राजा शनि होने से स्थिति थोड़ी अनियंत्रित हो सकती है। कुछ पारस्परिक विरोध और द्वेष की स्थिति राष्ट्र में दिख सकती है। बाढ़ एवं सूखे की समस्या देश के कई राज्यों को प्रभावित कर सकती है। किसी रोग के कारण अस्थिरता व भय का माहौल दिख सकता है। वहीं, सूर्य के मंत्री पद पर आने के कारण राजनीतिक क्षेत्र में हलचल बढ़ जाती है। आर्थिक क्षेत्र अच्छा रहता है। धन-धान्य में वृद्धि होती है।

ऐसा रहेगा नया साल
मेष : इस वर्ष आपको करियर में मिले-जुले परिणाम मिलेंगे। जून-जुलाई में कारोबार गति पकड़ेगा और आर्थिक लाभ होगा। प्रेम जीवन में कोई खास बदलाव नहीं आएगा। अपने रिश्ते को खास बनाए रखने के लिए पारदर्शिता लानी होगी।

वृषभ : स्वास्थ्य थोड़ा कमजोर रह सकता है, इस तरफ ध्यान दें। आय के नये स्रोत बनेंगे। अप्रैल के मध्य से मई के मध्य तक आर्थिक स्थिति मजबूत होगी और जून में भी यह सिलसिला जारी रहेगा।

मिथुन : त्वचा से संबंधित परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। व्यापार में नये आइडिया आर्थिक लाभ बढ़ाने में मदद करेंगे। बिजनेस के विस्तार के लिए घर से दूर जाना पड़ सकता है। आर्थिक जीवन में कोई बड़ी उपलब्धि हासिल होगी।

कर्क : नौकरी में पदोन्नति की सौगात मिल सकती है। धन लाभ के कई योग बन रहे हैं, हालांकि धन हानि भी हो सकती है, इसलिए निवेश संबंधी योजनाएं संभलकर बनायें। सामाजिक प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी।

सिंह : करियर में अच्छे परिणाम मिलेंगे, लेकिन इनसे आप संतुष्ट नहीं दिखेंगे। साथी से किसी बात को लेकर अनबन हो सकती है या किसी गलतफहमी के कारण भी रिश्तों में खटास आने की संभावना है। साल के मध्य में घर में कोई बड़ी खुशी आ सकती है। इस समय घर में मांगलिक कार्यक्रम हो सकता है।

कन्या : सफलता के कई अवसर आएंगे, हालांकि कुछ मौके ऐसे भी होंगे जब निराश होना पड़ सकता है। अपनी कुशल संवाद शैली के माध्यम से आप करियर में तरक्की करेंगे। आर्थिक जीवन सामान्य से बेहतर रहेगा। प्रेमजीवन में चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है।

तुला : इस वर्ष स्वास्थ्य लाभ मिलेगा, पुरानी बीमारियों से छुटकारा मिलेगा। करियर में बहुत ही बढ़िया परिणाम मिलेंगे। किसी के साथ नये रिश्ते की शुरुआत हो सकती है। साथी के साथ बढ़िया तालमेल दिखेगा।

वृश्चिक : सेहत संबंधी समस्या से जूझ सकते हैं। करियर को लेकर विदेश जाने की संभावनाएं हैं। आर्थिक जीवन के लिए यह साल मिलाजुला रह सकता है। खर्च और आमदनी के बीच तालमेल बनाकर चलें।

धनु : इस वर्ष वाहन सावधानी से चलाएं। करियर की दृष्टि से यह साल मिलेजुले परिणाम लेकर आएगा। नौकरी में प्रमोशन हो सकता है व वेतन बढ़ सकता है। प्रेम जीवन को लेकर आप कुछ ज्यादा ही गंभीर रहेंगे। यदि साथी से किसी तरह का विवाद हो जाता है, तो झगड़े को आगे न बढ़ाएं।

मकर : आर्थिक जीवन मिलाजुला रहेगा। विदेशी संबंधों से आर्थिक मुनाफा होने की प्रबल संभावना है। यदि नौकरी कर रहे हैं तो प्रमोशन हो सकता है। अक्तूबर आपके लिए कोई खुशखबरी लेकर आएगा। व्यापार में उन्नति होगी।

कुंभ : निरोगी रहेंगे, खुद को अधिक ऊर्जावान महसूस करेंगे। जोश, उत्साह और गजब की फुर्ती देखने को मिलेगी। इस साल आपके करियर को ऊंचाई मिलेगी। आमदनी के कई स्रोत होंगे। अपने आर्थिक पक्ष को लेकर खुश भी दिखाई देंगे।

मीन : कार्यक्षेत्र में नयी पहचान मिलेगी। आपकी छवि एक मेहनती और ईमानदार कर्मी की होगी। आर्थिक चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है, इसलिए इस पक्ष को लेकर थोड़े सावधान रहें। जोखिम भरे कदम उठाने से पहले उस पर विचार करें।

व्रत-पर्व
1 अप्रैल- पापमोचनी एकादशी व्रत (वैष्णव)
2 अप्रैल- भौम प्रदोष व्रत, वारुणी योग (सुबह 8.39 से रात 12.49 तक), वारुणी पर्व, वृद्ध अंगारक (बुढ़वा मंगल)।
3 अप्रैल- महाशिवरात्रि व्रत, मेला पिहोवा तीर्थ।
4 अप्रैल- मेला पिहोवा, अमावस (पितृकार्येषु), शबे मिराज (पूर्व रात्रि)।
5 अप्रैल- चैत्र अमावस (देव पितृकार्येषु), विक्रमी संवत‍् 2075 पूर्ण।
6 अप्रैल- ‘परिधावी’ नामक विक्रमी संवत‍् 2076 प्रारंभ, चैती, गौतम ऋषि जयंती, श्री कुंज बिहारी मेला-टिहरी, गुड़ी पड़वा, चैत्र (वासन्त) नवरात्र शुरू, संवत्सर फल श्रवण, सिंधी नववर्ष।

-सत्यव्रत बेंजवाल


Comments Off on 6 अप्रैल को हिंदू नव वर्ष
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.