सनी देओल, करिश्मा ने रेलवे कोर्ट के फैसले को दी चुनौती !    मेट्रो की तारीफ पर अमिताभ के खिलाफ प्रदर्शन !    तेजस में रक्षा मंत्री की पहली उड़ान, 2 मिनट खुद उड़ाया !    अयोध्या पर चुप रहें बयान बहादुर !    पीएम के प्रति ‘अपमानजनक' शब्द राजद्रोह नहीं !    अस्त्र मिसाइल के 5 सफल परीक्षण !    एनडीआरएफ में अब महिलाएं भी !    जेल में न कुर्सी मिली, न तकिया ; कम हुआ वजन !    दिल्ली में नहीं चलीं टैक्सी, ऑटो रिक्शा !    सीएम पद के लिए चेहरा पेश नहीं करेगी कांग्रेस: कैप्टन यादव !    

एकलव्य ने यहां दिया गुरुदक्षिणा में अंगूठा

Posted On April - 28 - 2019

तीर्थाटन
नवीन पांचाल
गुरु द्रोणाचार्य की कर्मस्थली गुरुग्राम के इतिहास में एक ऐसा पन्ना भी जुड़ा हुआ है जिसके बारे में बहुत कम लोग जानते हैं। देश का एकमात्र एकलव्य मंदिर गुरुग्राम में है। वही एकलव्य, जिन्होंने महाभारत काल में गुरु द्रोण की प्रतिमा को प्रतीकात्मक तौर पर अपना गुरु मानकर धनुर्विद्या हासिल की और बाद में गुरुदक्षिणा के रूप में अपने दाहिने हाथ का अंगूठा उन्हें दे दिया।
महाभारत काल में खांडवप्रस्थ के नाम से जिस स्थान को जाना जाता था, वह गुरुग्राम जिले का गांव खांडसा है। चारों तरफ विश्व प्रसिद्ध औद्योगिक इकाईयों से घिरे इस गांव में ही स्थित है एकलव्य मंदिर। यह मध्यप्रदेश, गुजरात, राजस्थान, महाराष्ट्र व पाकिस्तान के कई हिस्सों में बसे निषाद भील समाज के लोगों की आस्था का केंद्र है। इस समाज से जुड़े लोग देशभर से यहां माथा टेकने आते हैं। घर में किसी नये सदस्य के आगमन पर निषाद-भील समाज के लोग इस मंदिर में धौंक लगाने भी आते हैं। मंदिर में हर साल मेला लगता है और देश-विदेश में बसे निषाद-भील समाज के लोग यहां आकर मनोकामना मांगते हैं।
निषाद-भील समाज के लोगों की आस्था के कारण वर्ष 1721 में गांव खांडसा के लोगों ने यहां एक मढ़ी का निर्माण करवाया। इससे पहले मंदिर के नाम पर यहां सिर्फ एक चबूतरा बना हुआ था। कहा जाता है कि जिस स्थान पर चबूतरा बना था, वहां गुरु द्रोण ने एकलव्य से गुरुदक्षिणा में लिया हुआ अंगूठा दफनाया था। इसी चबूतरे पर निषाद-भील समाज के लोग माथा टेकने आते थे। अब यहां कुछ कमरे बनवा दिए गए हैं, ताकि दूर दराज से आने वाले आस्थावान लोग यहां रात्रि विश्राम कर सकें।
गांव के लोग इस मंदिर को विशाल तीर्थ में रूप में विकसित करवाने की मंशा रखते हैं। मंदिर के पास ही स्थित एक इंडस्ट्री के संचालक व स्थानीय निवासी दीपक मैनी कहते हैं कि यह मंदिर भारतभर में गुरु-शिष्य की अनूठी परंपरा का श्रेष्ठ उदाहरण है। इसे विकसित कर तीर्थ स्थल का रूप मिलना चाहिये। ग्रामीण कहते हैं कि अनदेखी के कारण ऐतिहासिक धरोहर सिर्फ कथा-कहानियों में सिमटकर रह गई है। ग्रामीण मान सिंह राघव बताते हैं कि एकलव्य मंदिर इसलिए भी महत्वपूर्ण है, क्योंकि यहीं से कुरुक्षेत्र में होने वाले महाभारत के युद्ध की रणनीति तैयार की गई। महाभारतकालीन राजधानी हस्तिनापुर भी इसी खांडवप्रस्थ की नीति से चलती थी।


Comments Off on एकलव्य ने यहां दिया गुरुदक्षिणा में अंगूठा
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.