सेटिंग करने वाला कथित बीमा एजेंट गिरफ्तार !    सोनीपत को लीडरशिप एवं कन्वरजेंस अवार्ड !    चाकुओं से गोदकर युवक की हत्या !    कश्मीर में सीआरपीएफ अफसर ने की आत्महत्या !    सफीदों पालिका सचिव पर 25 हजार जुर्माना !    गन्ना किसानों को भुगतान नहीं तो मैं भी बैठूंगा धरने पर : हुड्डा !    महीने के तीसरे या चौथे हफ्ते में मिल रही पेंशन !    पोषण अभियान में हिमाचल को 3 राष्ट्रीय पुरस्कार !    बीएसएफ ने ‘हरामी नाला’ क्षेत्र से जब्त कीं 2 पाक नौकाएं !    मुजफ्फरनगर में 3 तलाक देने पर पति गिरफ्तार !    

एकदा

Posted On April - 29 - 2019

आलोचना का सम्मान

रूस में क्रांति से पूर्व ज़ार का शासन था। काउंट प्रिसले वहां के प्रधानमंत्री थे। प्रजा प्रशासन से संतुष्ट नहीं थी। अतः कुछ लोग सदैव प्रधानमंत्री के खिलाफ़ इधर-उधर लिखकर, बोलकर दुष्प्रचार करते रहते थे। प्रिसले को भी यह बात पता थी। एक दिन उन्होंने अपने सचिव को बुलाकर कहा-देखो, हमारा प्रशासन सुचारु रूप से चल सके, इसके लिए हमें सबकी राय की आवश्यकता है। तुम उन लोगों की एक सूची तैयार करो, जिन्होंने अखबारों और पत्रिकाओं में मेरे खिलाफ़ कुछ भी लिखा हो या मेरे प्रति कुछ अलग धारणा रखते हों। कुछ दिनों बाद सचिव लगभग एक हज़ार लोगों की सूची ले आया। प्रधानमंत्री उसे देखकर बोले- इनमें से सबसे तेज़ और तीखी टिप्पणियां मुझे छांटकर दीजिए। सचिव ने ऐसे लोगों के नाम भी निकालकर दे दिए और पूछा-क्या इनके नाम पुलिस में दे दिए जाएं ताकि उन पर पर उचित कार्रवाई की जा सके। इस पर प्रिसले ने जवाब दिया-नहीं, मैं तो इन सबमें से अपना कट्टर विरोधी चुनकर उसे अपने अख़बार का संपादक बनाना चाहता हूं ताकि वह अपनी लेखनी द्वारा मेरी कमियां मुझे बता सके और मैं जनता की अपेक्षाओं के अनुरूप अपने को ढाल सकूं। यह काम चापलूस कभी नहीं कर सकते।                                                                                प्रस्तुति : मुकेश जैन


Comments Off on एकदा
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.