दोस्ती में समझदारी भी ज़रूरी !    सहयोगियों की कार्यक्षमता को समझें !    आज का एकलव्य !    सुडोकू से बढ़ाएं बच्चों की एकाग्रता !    विद्यालय जाने की खुशी !    तंग नज़रिये की फूहड़ता !    इनसान से एक कदम आगे टेक्नोलॉजी !    महिलाएं भी कर सकती हैं श्राद्ध! !    आध्यात्मिक यात्रा में सहायक मुद्राएं !    उपवास के लिए साबूदाना व्यंजन !    

आपकी राय

Posted On April - 20 - 2019

प्रतिबंध लगे
दैनिक ट्रिब्यून के सम्पादकीय पृष्ठ पर अनूप भटनागर का लेख हमारे देश की चुनाव प्रक्रिया पर सवालिया निशान खड़ा करता है। देखने में आता है कि देश में नेता एक से अधिक निर्वाचन क्षेत्रों से चुनाव लड़ते हैं और कई बार दोनों जगह से जीत भी जाते हैं। इससे बिना मतलब का चुनावी खर्च बढ़ता है तथा एक निर्वाचन क्षेत्र की जनता को दोबारा जबरदस्ती चुनाव में धकेला जाता है। जाहिर है कि नेता दोनों जगह से जीतने के बाद एक क्षेत्र से इस्तीफा देगा। इसका मतलब है एक क्षेत्र की जनता से विश्वासघात। देश में कानून बनना चाहिए कि कोई भी नेता एक से अधिक निर्वाचन क्षेत्रों से चुनाव न लड़े।
सोहनलाल गौड, कैथल

मौसम की मार
पिछले दिनों उत्तर भारत में कहीं तेज हवाएं चलीं और आंधी के साथ बारिश हुई। लेकिन बेमौसमी बारिश किसानों को परेशान करने वाली है, क्योंकि बहुत से राज्यों में गेहूं की फसल लगभग पक कर तैयार है। मौसम अगर इसी तरह रहा तो किसानों की मेहनत पर पानी फिर जाएगा। कुदरत से छेड़छाड़ का ही नतीजा है कि मौसम चक्र बिगड़ने लगा है। सरकारों और कृषि विभाग को चाहिए कि किसानों को मौसम की बेरुखी से फसलों को होने वाले नुकसान से बचाने के तरीके सुझाने के लिए गंभीरता दिखाएं।
राजेश कुमार चौहान, जालंधर

जानलेवा करतूत
ट्रेन के गुजरते वक्त फाटक बंद होने के बावजूद कुछ लोग इंतजार नहीं करते। वे झुककर खुद बैरियर के नीचे से फाटक पार करने लगते हैं और साइकिल व मोटरसाइकिल भी पार कराने से गुरेज नहीं करते। रेलवे के नियमों के अनुसार फाटक बंद होने के बाद रेलवे लाइन क्रॉस करना कानूनन जुर्म है और जानलेवा भी। हमारी नैतिक जिम्मेदारी है कि फाटक बंद होने पर ट्रेन के गुजरने का इंतजार करें और बंद फाटक के नीचे या बगल से निकलने का प्रयास न करें। थोड़ी-सी लापरवाही से जान को खतरा हो सकता है।
कुलदीप प्रजापति, नरड़, कैथल

संपादकीय पृष्ठ पर प्रकाशनार्थ लेख इस ईमेल पर भेजें :- dtmagzine@tribunemail.com


Comments Off on आपकी राय
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.