दिल्ली की पूर्व सीएम शीला दीक्षित का निधन !    5 मिनट में फिट !    बीमारियां भी लाता है मानसून !    तापसी की 'सस्ती पब्लिसिटी' !    सिल्वर स्क्रीन !    फ्लैशबैक !    सर्वश्रेष्ठ देने के लिए तैयार !    खबर है !    हेलो हाॅलीवुड !    हरप्रीत सिद्धू फिर एसटीएफ प्रमुख नियुक्त !    

पूर्वोत्तर में भाजपा ने 6 दलों से मिलाया हाथ

Posted On March - 14 - 2019

असम गण परिषद भी साथ, 22 सीटों पर नजर
गुवाहाटी, 13 मार्च (एजेंसी)
भाजपा ने पूर्वोत्तर में गठबंधन की प्रक्रिया पूरी कर ली है और क्षेत्र के 8 राज्यों की 25 लोकसभा सीटों में से कम से कम 22 जीतने का लक्ष्य रखा है। नागरिकता (संशोधन) विधेयक के मुद्दे पर 2 महीने पहले भाजपा से अपने संबंध समाप्त करने वाली असम गण परिषद (एजीपी) भी दोबारा उसके साथ आ गयी है। भाजपा के महासचिव और पूर्वोत्तर प्रभारी राम माधव ने मंगलवार आधी रात तक एजीपी, बोडोलैंड पीपुल्स फ्रंट, इंडिजिनस पीपुल्स फ्रंट ऑफ त्रिपुरा, नेशनल पीपुल्स पार्टी, नेशनलिस्ट डेमोक्रेटिक प्रोग्रेसिव पार्टी और सिक्किम क्रांतिकारी मोर्चा के साथ कई दौर की चर्चा के बाद गठबंधन को अंतिम रूप दिया।
बुधवार को माधव ने कहा कि असम, नगालैंड, मेघालय, मणिपुर और अरुणाचल प्रदेश में भाजपा, एनपीपी, एनडीपीपी, एजीपी और बीपीएफ कांग्रेस को हराने के लक्ष्य से साथ लड़ेंगे। त्रिपुरा में भाजपा आईपीएफटी के साथ चुनाव लड़ेगी। उन्होंने बताया कि सिक्किम में भाजपा का गठबंधन मुख्य विपक्षी पार्टी सिक्किम क्रांतिकारी मोर्चा के साथ होगा। माधव ने कहा, ‘विपक्ष अभी भी बातचीत कर रहा है और महागठबंधन बनाने के बारे में कह रहा है, लेकिन हमारा गठबंधन पूर्वोत्तर एवं देश के अन्य हिस्सों में हो चुका है। एनडीए आज पहले से कहीं ज्यादा मजबूत गठबंधन है।’
नागरिकता मुद्दे पर हुए थे अलग : असम गण परिषद अध्यक्ष अतुल बोरा ने कहा कि कांग्रेस को हराने के लिए पहले के सहयोगी फिर से साथ आ गये हैं। हालांकि, नागरिकता (संशोधन) विधेयक और चुनाव के दौरान इस मुद्दे पर पार्टी के रुख को लेकर पूछे गए किसी भी सवाल का बोरा ने जवाब नहीं दिया। यहां उल्लेखनीय है कि एजीपी ने इस विधेयक पर कदम उठाने को लेकर असम में भाजपा सरकार से अपना समर्थन जनवरी में वापस ले लिया था। इस विधेयक में बांग्लादेश, अफगानिस्तान और पाकिस्तान के गैर मुस्लिम लोगों को भारत में 6 साल तक रहने के बाद नागरिकता देने की बात कही गई है। इसका विरोध करते हुए एजीपी ने सार्वजनिक तौर पर भाजपा नेतृत्व की आलोचना की थी।
पश्चिम बंगाल संवेदनशील राज्य घोषित हो : भाजपा

नयी दिल्ली में बुधवार को चुनाव आयोग में अपनी बात रखकर लौटते भाजपा नेता रवि शंकर प्रसाद, निर्मला सीतारमण, जेपी नड्डा, भूपेंद्र यादव, कैलाश विजय वर्गीय व अन्य। – मानस रंजन भुई

नयी दिल्ली (एजेंसी) : केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद के नेतृत्व में भाजपा के एक शिष्टमंडल ने बुधवार को चुनाव आयोग से पश्चिम बंगाल में स्वतंत्र एवं निष्पक्ष चुनाव सुनिश्चित करने के लिये प्रदेश को ‘संवेदनशील राज्य’ घोषित करने की मांग की। भाजपा शिष्टमंडल में प्रसाद के अलावा केंद्रीय मंत्री निर्मला सीतारमण, भाजपा नेता भूपेंद्र यादव, कैलाश विजयवर्गीय आदि शामिल थे। प्रसाद ने संवाददाताओं से कहा कि हमने पश्चिम बंगाल को संवेदनशील राज्य घोषित करने की मांग की है। भाजपा ने लोकसभा चुनाव के दौरान राज्य में केंद्रीय पर्यवेक्षक तैनात करने का आग्रह किया है। पार्टी ने कहा है कि बंगाल में हर बूथ पर अर्द्धसैनिक बलों की तैनाती होनी चाहिए। भाजपा ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी द्वारा प्रधानमंत्री के खिलाफ लगाये गए आरोपों पर संज्ञान लेने की मांग भी की और कहा कि आरोप बेबुनियाद हैं। गौरतलब है कि पश्चिम बंगाल में सात चरणों में लोकसभा चुनाव कराए जाएंगे। हर चरण में पश्चिम बंगाल में चुनाव हैं।


Comments Off on पूर्वोत्तर में भाजपा ने 6 दलों से मिलाया हाथ
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.