1100 नंबर पर शिकायत का हुआ उलटा असर! !    चैनल चर्चा !    सुकून और सेहत का संगम !    गुमनाम हुए जो गायक !    फ्लैशबैक !    'एवरेज' कहकर रकुल को किया रिजेक्ट! !    बदलते मौसम में त्वचा रोग और सफेद दाग !    सिल्वर स्क्रीन !    तुतलाहट से मुक्ति के घरेलू नुस्खे !    हेलो हाॅलीवुड !    

गुरु बदलेंगे राशि, वक्री होंगे शनि

Posted On March - 26 - 2019

मदन गुप्ता सपाटू
जब भी बड़े ग्रह राशि परिवर्तन करते हैं, तो मेदनीय ज्योतिष के अनुसार अहम बदलाव आता है और ऐसा ही कुछ अप्रैल के बाद होने जा रहा है। आकाश में 2 बड़े ग्रह बृहस्पति और शनि राशि बदलने जा रहे हैं। बृहस्पति ग्रह 29 मार्च को रात 8:13 बजे धनु राशि में गोचर करेगा। इसके बाद 22 अप्रैल को शाम 5:55 बजे वक्री चाल चलते हुए वापस वृश्चिक राशि में लौट आएगा। वहीं, शनि ग्रह 30 अप्रैल को वक्री होने जा रहा है। इसके बाद यह ग्रह 18 सितंबर को मार्गी होगा। जब भी शनि वक्री या मार्गी होता है, कई देशों में राजनीतिक और भौगोलिक परिवर्तन होते देखे गए हैं।
ज्योतिष शास्त्र के अनुसार बृहस्पति एक शुभ ग्रह है और इसे गुरु की संज्ञा भी दी गई है। यह धनु और मीन राशि का स्वामी होता है।
कुंडली में स्थित भिन्न-भिन्न भावों पर गुरु के भिन्न-भिन्न परिणाम देखने को मिलते हैं। कुंडली में बृहस्पति के बलवान होने पर जातक को आर्थिक और वैवाहिक जीवन में अच्छे परिणाम मिलते हैं। जातक का मन धर्म एवं आध्यात्मिक कार्यों में अधिक लगता है। गुरु को वृद्धि, प्रचुरता और उदारता का कारक माना जाता है। बृहस्पति ग्रह संतान, ज्ञान, धर्म व दर्शन का कारक है और शुभ ग्रह होने की वजह से उत्तम फल प्रदान करता है। गुरु ग्रह को धनु व मीन राशि का स्वामित्व प्राप्त है। यह कर्क राशि में उच्च भाव और मकर राशि में नीच भाव में रहता है। ज्योतिषीय दृष्टि से साल 2019 में गुरु का महत्वपूर्ण प्रभाव देखने को मिलेगा।
गुरु के धनु राशि में गोचर का ऐसा रहेगा असर (राशिफल चंद्र राशि पर आधारित )
मेष : आर्थिक क्षेत्र में सफलता मिलेगी। आमदनी बढ़ने की प्रबल संभावना रहेगी। सकारात्मक परिणाम मिलेंगे और अध्यात्म के प्रति रुचि बढ़ेगी। इस दौरान धार्मिक यात्रा पर जाना हो सकता है।
उपाय : भगवान शिव का रुद्राभिषेक करें।

वृषभ : अष्टम भाव में आपके कार्य, व्यवसाय पर प्रभाव पड़ेगा। आपको मजबूरन किसी यात्रा पर जाना पड़ सकता है। जीवन में कई बदलाव लेकर आएगा। आध्यात्मिक विषय पर आप विशेष रुचि ले सकते हैं।
उपाय: बृहस्पतिवार के दिन शुद्ध घी का दान करें।

मिथुन : गुरु सप्तम भाव में संचरण करेगा। निवेश करेंगे तो अच्छा लाभ मिलने की संभावना है। सुख-सुविधाएं बढ़ने का योग है। आप दूसरे लोगों से मधुर और प्रभावी संवाद स्थापित करेंगे।
उपाय : घर में कपूर का दीया जलाएं।

कर्क : यदि लोन लेने पर विचार कर रहे हैं तो इसमें गोचर आपकी मदद करेगा। इस समय शत्रु आप पर हावी होने का प्रयास कर सकता है, उसकी चाल से सावधान रहें। किसी प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं तो प्रयासरत रहें और जमकर मेहनत करें। नौकरी मिलने की प्रबल संभावना है।
उपाय : बृहस्पतिवार के दिन केले के वृक्ष की पूजा करें।
सिंह : गुरु पंचम भाव में गोचर करेगा। इस अवधि में अध्यात्म के क्षेत्र में आप विशेष रुचि लेते हुए दिखाई देंगे। इस समय आप परिवार में किसी नन्हे सदस्य का स्वागत कर सकते हैं। वाहन अथवा प्रॉपर्टी खरीदने की योजना बनाएंगे। व्यावसायिक स्तर पर उन्नति होगी। सामाजिक कल्याण के कार्यों में सक्रिय भूमिका निभाएंगे।
उपाय : बृहस्पति बीज मंत्र का जाप करें- ॐ ग्रां ग्रीं ग्रौं स: गुरवे नम:।

कन्या : परिवार में किसी प्रकार का क्लेश हो सकता है। किसी पर जरूरत से ज्यादा विश्वास न करें। कठिन परिस्थितियों का सामना करने के लिए मानसिक रूप से तैयार रहें।
उपाय : किसी जरूरतमंद या ब्राह्मणें को चीनी दान करें और गाय को रोटी खिलाएं।

तुला : विभिन्न प्रकार की चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है। सफलता की राह में बाधाएं देखने को मिल सकती हैं। निवास स्थान में परिवर्तन होने की संभावना है। गोचर के दौरान आपको आध्यात्मिक ज्ञान प्राप्त होगा। इससे आपको मानसिक शांति व स्थिरता का आभास होगा।
उपाय : हल्दी एवं चने की दाल का दान करें और गाय को रोटी खिलाएं।

वृश्चिक : इस दौरान आपके भाग्य का सितारा चमकेगा। आर्थिक क्षेत्र में लाभ के प्रबल योग हैं। जरूरत पड़ने पर आपको परिजनों का सहयोग प्राप्त होगा। घर पर कोई शुभ कार्य संपन्न हो सकता है। शादीशुदा के लिए गुरु का गोचर शुभ परिणामकारी रहेगा। वैवाहिक जीवन में खुशियां आएंगी।
उपाय : बृहस्पति बीज मंत्र का जाप करें- ॐ ग्रां ग्रीं ग्रौं स: गुरवे नम:।

धनु : यह गोचर उन जातकों के लिए लाभकारी रहेगा जो अध्ययन कर रहे हैं। प्रेम जीवन और वैवाहिक जीवन के लिए गुरु का गोचर अनुकूल परिस्थितियां बनाएगा। इस समय आर्थिक मामलों में आपको किसी प्रकार की बाधा का सामना करना पड़ सकता है।
उपाय : पुखराज को सोने की अगूंठी में जड़वाकर तर्जनी उंगली में पहनें।

मकर : यात्रा के योग बनेंगे। विदेश यात्रा भी संभव है। आर्थिक क्षेत्र में किसी प्रॉपर्टी में निवेश संभव है। धार्मिक आयोजनों में खर्च हो सकता है। आप धर्म-कर्म में इतने अधिक व्यस्त रह सकते हैं कि भौतिक सुख-सुविधाएं आपको आकर्षित नहीं कर पाएंगी। जीवनसाथी से रिश्ते मधुर होंगे।
उपाय : माथे पर केसर का तिलक लगाएं और जेब में पीले रंग का रुमाल रखें।

मदन गुप्ता सपाटू

कुंभ : अपने प्रिय के साथ समय बिताने का अवसर मिलेगा। कार्यक्षेत्र में लाभ मिलने और करियर में तरक्की का योग है। स्वास्थ्य अच्छा रहेगा। गोचर के दौरान आप पर गुरु का आशीर्वाद बना रहेगा। इसलिए इस दौरान विभिन्न क्षेत्रों में सफल परिणाम देखने को मिलेंगे।
उपाय : सुबह पीपल के वृक्ष पर साफ पानी चढ़ाएं। परंतु वृक्ष को न छुएं।

मीन : गुरु दसवें भाव में गोचर करेगा। नौकरी अथवा बिजनेस के कारण निवास स्थान में बदलाव संभव है। माता को स्वास्थ्य लाभ मिलेगा। यदि उन्हें लंबे समय से दर्द की शिकायत है तो उसमें उन्हें आराम मिलेगा। पारिवारिक जीवन में सुख-शांति बनी रहेगी।
उपाय : घर में किसी पवित्र जगह पर गुरु यंत्र स्थापित करें और नित्य उसकी आराधना करें।


Comments Off on गुरु बदलेंगे राशि, वक्री होंगे शनि
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.