चैनल चर्चा !    सुकून और सेहत का संगम !    गुमनाम हुए जो गायक !    फ्लैशबैक !    'एवरेज' कहकर रकुल को किया रिजेक्ट! !    बदलते मौसम में त्वचा रोग और सफेद दाग !    सिल्वर स्क्रीन !    तुतलाहट से मुक्ति के घरेलू नुस्खे !    हेलो हाॅलीवुड !    वर्तमान डगर और कर्म निरंतर !    

अध्यात्म की राह पर ही आनंद

Posted On March - 26 - 2019

अम्मा अमृतानंदमयी
जीवन में भौतिक और आध्यात्मिक भागों को अलग देखने की जरूरत नहीं है। अंतर केवल मानसिक दृष्टिकोण का है। हमें आध्यात्मिकता समझ लेनी चाहिये और उसी के अनुसार जीवन जीना चाहिये, तभी जीवन आनंदमय होगा। आध्यात्मिकता हमें सच्चा सुखी जीवन जीना सिखाती है। मानों जीवन का भौतिक पक्ष- चावल है और आध्यात्मिक पक्ष शक्कर है। आध्यात्मिकता की मिठास खीर को मीठा बनाती है। आध्यात्मिक समझ से जीवन में मधुरता आती है।
यदि तुम जीवन के केवल भौतिक पक्ष को महत्व दोगे तो दुख ही पाओगे। जो केवल सांसारिक सुखों की कामना करते हैं, उन्हें दुख भोगने के लिए भी तैयार रहना चाहिये। अतः जो दुख झेलने के लिये तैयार हाें, उन्हें ही सांसारिक वस्तुओं के लिये प्रार्थना करनी चाहिये। सांसारिक पक्ष हमेशा तुम्हें परेशान करेगा, पीड़ा देगा। इसका यह अर्थ नहीं कि तुम संसार का पूरी तरह त्याग कर दो। अम्मा केवल यही कह रही है कि संसार में रहते हुए, आध्यात्मिकता की समझ-बूझ होना भी आवश्यक है। तब सांसारिक दुख तुम्हें कमजोर नहीं कर पायेंगे।
हमारा अपना होने का दावा करने वाले संबंधी भी वास्तव में हमारे नहीं हैं। हमारा परिवार भी वास्तव में हमारा नहीं है। केवल भगवान ही हमारा सच्चा परिवार है। शेष कोई भी, कभी भी, हमारे विरुद्ध जा सकता है। लोग केवल अपने सुख के लिये हमें प्यार करते हैं। जब दुख, बीमारी और मुसीबत आती है, तो उसे अकेले ही झेलना पड़ता है। इसलिये केवल प्रभु से जुड़े रहो। अगर हम संसार से जुड़ जायेंगे, तो फिर अपनी स्वतंत्रता पाना बहुत कठिन हो जायेगा। संसार की आसक्ति से मुक्त होने के लिये एक व्यक्ति को अनगिनत जन्म लेने पड़ते हैं।
जीवन ऐसा जीना चाहिये जैसा अपना कर्तव्य निभा रहे हैं। तब, लोगों के मुंह फेर लेने या विरुद्ध हो जाने पर भी हम उदास नहीं होंगे। हमारा कोई अति प्रिय व्यक्ति भी अचानक हमारे विरुद्ध हो जाये, तो भी हम नहीं टटूेंगे, हमारे पास निराश होने का कोई कारण नहीं होगा।
अगर तुम्हारे हाथ में चोट लगी है, तो बैठकर रोने से घाव नहीं भरेगा। धन नष्ट होने पर या संबंधी के वियोग पर भी रोते रहने से कुछ नहीं होगा। रोने से कुछ भी वापस नहीं आयेगा। लेकिन, हम यदि समझ लें और स्वीकार कर लें कि आज जो हमारे साथ हैं, वे कल हमें छोड़ भी सकते हैं, तो हम किसी के छोड़ जाने या विरुद्ध हो जाने पर भी अप्रभावित रह सकेंगे। इसका अर्थ यह नहीं कि हम किसी को प्यार न करें। प्यार करें, किंतु हमारा प्यार नि¢स्वार्थ और बिना किसी अपेक्षा के होना चाहिये। इस प्रकार हम अनावश्यक दुखों से बच सकते हैं।
सांसारिक जीवन में दुख हैं। फिर भी यदि हममें आध्यात्मिक समझ-बूझ है तो हम इससे कुछ सुख पा सकते हैं। यदि हम प्रशिक्षण पाये बिना तूफानी समुद्र में कूद पड़ेंगे तो लहरें हमें दबा देंगी और हम डूब भी सकते हैं। लेकिन, जिन्हें समुद्र में तैरना आता है, उन्हें विक्षुब्ध लहरों से कोई परेशानी नहीं होगी। इसी प्रकार यदि आध्यात्मिकता हमारा जीवन आधार है, तो हम किसी भी परिस्थिति में आगे बढ़ सकते हैं।
सुख-दुख मन की उपज
मन एक वस्तु को पसंद करता है तो दूसरी से घृणा। कुछ लोगों कोलगता है कि वे सिगरेट के बिना जी नहीं सकते, जबकि दूसरों कोसिगरेट के धुएं से भी परेशानी होती है। दुख और सुख मन की उपज हैं। अगर तुम मन पर नियंत्रण करके, उसे सही मार्ग पर चला दो, तोजीवन में सुख ही सुख रहेगा। इसके लिए तुम्हें आध्यात्मिक ज्ञान चाहिये।
सुखी रहने के सूत्र
हमेशा मंत्र जप करो। केवल ईश्वर चर्चा करो। समस्त स्वार्थ त्याग दो। सब कुछ प्रभु को समर्पित कर दो। इन चार सूत्रों का पालन करने पर, हम कभी दुखी नहीं होंगे। जब हम संसार की किसी भी वस्तु से जुड़ सकते हैं, तो ईश्वर से क्यों नहीं? हमारी जीभ संसार के हर विषय पर चर्चा कर सकती है, तो मंत्र जाप क्यों नहीं कर सकती? यदि हम ये कर सकें, तो हम और हमारे आसपास के लोग भी सुख-शांति का अनुभव करेंगे।
कौन सांसारिक
सांसारिक होने का अर्थ है, भगवान कोभूल जाना- आत्मकेंद्रित होकर अपने सुख के अलावा और कुछ न चाहना, सुख के लिये भौतिक वस्तुओं पर निर्भर रहना और छोटी-छोटी मौज-मस्ती के नाम पर जीवन भर दुखी होते रहना। इस तरह के लोग अपनी शांति खो देते हैं और आसपास के लोगों को भी दुखी कर देतेे हैं।
कौन आध्यात्मिक
आध्यात्मिक होने का अर्थ है- ‘नि:स्वार्थ होना और सब कुछ परमेश्वर को सौंप देना- यह जानते हुए कि सब कुछ उसी का है।’ जो इस प्रकार का जीवन जीते हैं, वे स्वयं आंतरिक शांति अनुभव करते हैं और आसपास के लोगों में भी शांति का अहसास जगाते हैं।


Comments Off on अध्यात्म की राह पर ही आनंद
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.