भगौड़े को पकड़ने गयी पुलिस पर हमला, 3 कर्मी घायल !    एटीएम को गैस कटर से काट उड़ाये 12.61 लाख !    कुल्लू में चरस के साथ 2 गिरफ्तार !    बारहवीं की छात्रा ने घर में लगाया फंदा !    नेपाल को 56 अरब नेपाली रुपये की मदद देगा चीन !    इस बार अब तक कम जली पराली !    पीएम की भतीजी का पर्स चुरा सोनीपत छिप गया, गिरफ्तार !    फरसा पड़ा महंगा, जयहिंद को आयोग का नोटिस !    महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में प्रचार करेंगी मायावती !    ‘गांधीजी ने आत्महत्या कैसे की?’ !    

आसमान से आग

Posted On May - 19 - 2017

बाकी गर्मी की असली झांकी
अंडमान निकोबार में निर्धारित समय से तीन दिन पहले मानसून की फुहार को देश की जनता ने एक उम्मीद के रूप में महसूस किया। आशा जगी की देर-सवेर मानसून आ ही जायेगा। यूं तो केरल में मानसून की दस्तक एक जून तक विधिवत मानी जाती है। कहना जल्दबाजी होगा कि वहां भी वह समय से पहले पहुंचेगा। बहरहाल, आसमानी आग से झुलस रहे उत्तरी भारत के राज्यों को अभी कुछ और समय गर्मी की तपिश झेलनी होगी। मानसून के इस एहसास को गर्म हवा का थपेड़ा तब महसूस हुआ जब नासा की रिपोर्ट आई कि अप्रैल का महीना पिछले 137 सालों में दूसरा सबसे गर्म महीना रहा। इस आंकड़े के बाद गर्मी के एहसास और तीखे हो गये। वैसे साल-दर-साल ऐसे आंकड़े सामने आ रहे हैं कि इतने सालों का रिकॉर्ड टूटा। कुदरत के मिजाज में लगातार तल्खी है। हम न इसकी वजह को और न आने वाली पीढ़ी के भविष्य की चिंताओं को गंभीरता से ले रहे हैं। बल्कि हमने विकास के ऐसे मानक तैयार कर लिये हैं जो पर्यावरण के घोर विरोधी हैं। जो ऐसा वातावरण तैयार करते हैं कि गर्मी की तपिश साल-दर-साल और तीखी होगी।
दुनिया के पर्यावरण संरक्षण यौद्धा दशकों से ग्लोबल वार्मिंग व धरती के तपने की चेतावनी दे रहे थे। जनसंख्या विस्फोट के बाद आबादी के बोझ से चरमराती धरती अब सूरज की ऊष्मा सोख नहीं पा रही है। हमने जंगल काटे और कंक्रीट के जंगल  उगाये। कंक्रीट के जंगलों में सूरज की तपिश सोखने की क्षमता धरती के मुकाबले न के बराबर है जो हमारे वातावरण को और गर्म बना देती है। पेड़ों के रहने से वातावरण सुहाना बना रहता था मगर शहरों में जंगल न के बराबर हैं। दूसरे हमने सुख-सुविधाओं की शृंखला में जो कार, एसी व फ्रिज जोड़े हैं, वे ग्रीन हाऊस गैसों का बड़ी मात्रा में उत्सर्जन करते हैं। दरअसल हमारी जीवनशैली इतनी कृत्रिम हो चली है कि वह प्रकृति के कोसों दूर है। तापमान को संतुलित करने वाले नदी, नाले, तालाब, बावड़ी व झीलें सूख रही हैं। आने वाले वर्षों में हमें आसमान से बरसती आग में जीने के लिये तैयार रहना होगा। चिंता इस बात की है कि झुलसाती गर्मी में पानी और बिजली का संकट तपिश को और बढ़ा देता है। जिसमें जीने की हमें आदत डालनी पड़ेगी।


Comments Off on आसमान से आग
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.