4 करोड़ की लागत से 16 जगह लगेंगे सीसीटीवी कैमरे !    इमीग्रेशन कंपनी में मिला महिला संचालक का शव !    हरियाणा में आर्गेनिक खेती की तैयारी, किसानों को देंगे प्रशिक्षण !    हरियाणा पुलिस में जल्द होगी जवानों की भर्ती : विज !    ट्रैवल एजेंट को 2 साल की कैद !    मनाली में होमगार्ड जवान पर कातिलाना हमला !    अंतरराज्यीय चोर गिरोह का सदस्य काबू !    एक दोषी की पुनर्विचार याचिका पर सुनवाई 17 को !    रूस के एकमात्र विमानवाहक पोत में आग !    पूर्वोत्तर के हिंसक प्रदर्शनों पर लोकसभा में हंगामा !    

स्टार प्रचारकों का रहा इंतजार, स्थानीय नेताओं ने संभाली कमान

Posted On May - 4 - 2014

शशिकांत/ ट्रिन्यू
शिमला, 4 मई
देश के दिग्गज नेताओं के तूफानी प्रचार के बाद सोमवार शाम 6 बजे हिमाचल प्रदेश में भी चुनावी शोर थम जाएगा। इसके बाद प्रदेश में रैलियों और जनसभाओं के साथ-साथ प्रचार के अन्य तौर-तरीकों पर भी पूरी तरह से रोक लग जाएगी। करीब 2 माह लम्बे चले चुनाव प्रचार के दौरान इस दफा प्रदेश में भाजपा और कांग्रेस के कई दिग्गज नेताओं ने आकर मतदाताओं को रिझाने का प्रयास किया। भाजपा के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी ने जहां प्रचार के अंतिम दौर में रैलियां की वहीं, कांग्रेस उपाध्यक्ष सोनिया गांधी और उपाध्यक्ष राहुल गांधी की रैलियां भी आखिरी दौर में ही हुई। चुनाव प्रचार की समाप्ति के साथ ही इस दफा कांग्रेस और भाजपा दोनों के मन में ही यह मलाल रह जाएगा कि हिमाचल में वे अपने वरिष्ठ नेताओं से उतना चुनाव प्रचार नहीं करवा पाए जितना चाहते थे।
देश भर के चुनावी प्रचार में व्यस्त रहे कांग्रेस और भाजपा के नेता पहले तो हिमाचल में आ ही नहीं पाए और जब आए तो इक्का-दुक्का रैलियों को संबोधित करने से ज्यादा कुछ नहीं कर पाए। भाजपा के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी गत 29 अप्रैल को तूफानी दौरे पर हिमाचल आए। इस एक दिन के दौरान ही उन्होंने प्रदेश में 3 जगह रैलियों को संबोधित किया। पालमपुर, मंडी और सोलन में आयोजित की गई इन रैलियों के जरिए उन्होंने कांगड़ा, मंडी और शिमला लोकसभा क्षेत्र में तो प्रचार किया लेकिन हमीरपुर लोकसभा क्षेत्र में प्रचार का समय वे नहीं निकाल पाए। हमीरपुर क्षेत्र में वे हालांकि 16 फरवरी को सुजानपुर में आयोजित एक रैली को संबोधित कर गए थे लेकिन तब तक क्योंकि लोकसभा चुनाव की घोषणा नहीं हुई थी इसलिए इसे चुनावी प्रचार की दृष्टि से नहीं देखा गया। हमीरपुर सीट पर भाजपा का पूरा दारोमदार अब पूर्व मुख्यमंत्री प्रो. प्रेम कुमार धूमल की ओर से किए गए चुनाव प्रचार पर ही टिका है। यहां से उनके बेटे अनुराग ठाकुर मैदान में हैं।

हमीरपुर में नहीं हो सकी सोनिया की रैली
कांग्रेस का जहां तक सवाल है कांग्रेस ने हमीरपुर लोकसभा क्षेत्र के तहत बिलासपुर में राहुल गांधी की एक रैली जरूर करवाई लेकिन पार्टी इस क्षेत्र में सोनिया गांधी की रैली नहीं करवा पाई। राहुल गांधी भी केवल 2  रैलियां ही हिमाचल में कर पाए। बिलासपुर के अलावा उन्होंने भी सोलन में कांग्रेस की दूसरी रैली को संबोधित किया। कांग्रेस चाह रही थी कि राहुल गांधी की भी कम से कम 2 रैलियां और प्रदेश में हो जाती। उधर सोनिया गांधी इस चुनाव में प्रदेश में केवल एक ही रैली कर पाई। कुल्लू में रविवार को हुई रैली के जरिए उन्होंने मंडी लोकसभा क्षेत्र के मतदाताओं को संबोधित किया। हिमाचल में कांग्रेस द्वारा बनाई गई रणनीति के तहत शुरू में सोनिया गांधी की भी कम से कम 3 रैलियां कराने का प्रयास किया गया था।

पहली बार प्रदेश में आडवाणी की रैली नहीं
भाजपा के वरिष्ठ नेताओं में नरेंद्र मोदी के अलावा पार्टी अध्यक्ष राजनाथ सिंह ने यहां के चुनाव में जरूर शिरकत की लेकिन लालकृष्ण आडवाणी जैसे दिग्गज नेता यहां नहीं आ पाए। हिमाचल के चुनावी इतिहास में संभवत: ऐसा पहली बार हुआ जब भाजपा के प्रचार के लिए आडवाणी ने प्रदेश में एक भी जनसभा नहीं की। इसी तरह पार्टी के पूर्व अध्यक्ष नितिन गडकरी भी राज्य में नहीं आ पाए।


Comments Off on स्टार प्रचारकों का रहा इंतजार, स्थानीय नेताओं ने संभाली कमान
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.