4 करोड़ की लागत से 16 जगह लगेंगे सीसीटीवी कैमरे !    इमीग्रेशन कंपनी में मिला महिला संचालक का शव !    हरियाणा में आर्गेनिक खेती की तैयारी, किसानों को देंगे प्रशिक्षण !    हरियाणा पुलिस में जल्द होगी जवानों की भर्ती : विज !    ट्रैवल एजेंट को 2 साल की कैद !    मनाली में होमगार्ड जवान पर कातिलाना हमला !    अंतरराज्यीय चोर गिरोह का सदस्य काबू !    एक दोषी की पुनर्विचार याचिका पर सुनवाई 17 को !    रूस के एकमात्र विमानवाहक पोत में आग !    पूर्वोत्तर के हिंसक प्रदर्शनों पर लोकसभा में हंगामा !    

राज्य में चुनाव बना दिग्गजों के लिए प्रतिष्ठा का प्रश्न

Posted On May - 3 - 2014

शशिकांत/ट्रिन्यू
शिमला, 3 मई
हिमाचल में 4 सीटों पर होने वाले लोकसभा चुनाव भले ही राज्य की राजनीति से सीधे तौर पर न जुड़े हों लेकिन यह चुनाव राज्य के दिग्गज राजनेताओं के लिए प्रतिष्ठा का प्रश्न बन गए हैं। आलम यह है कि मौजूदा मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह के साथ-साथ दो पूर्व मुख्यमंत्रियों प्रो. प्रेम कुमार धूमल और शांता कुमार का भविष्य भी इस चुनाव में दांव पर लगा दिखाई दे रहा है। हालांकि वीरभद्र सिंह और धूमल खुद चुनाव नहीं लड़ रहे हैं लेकिन इसके बावजूद रानी प्रतिभा सिंह और अनुराग ठाकुर की जीत हार उनकी राजनीति को स्पष्ट तौर पर प्रभावित करेगी।
हिमाचल का इतिहास रहा है कि यहां लोकसभा चुनाव में मतदाता उसी पार्टी को बढ़त दिलाते रहे हैं जो यहां सत्ता में होती है। ऐसे में अगर इस बार कांग्रेस लोकसभा चुनाव में हार जाती है तो राज्य की राजनीति में एक नया इतिहास लिखा जाएगा। मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह के लिए जहां राजनीतिक तौर पर कम से कम 3 सीटों पर पार्टी को विजय दिलाना जरूरी है वहीं व्यक्तिगत तौर पर उनके लिए यह भी आवश्यक है कि उनकी पत्नी प्रतिभा सिंह हर हाल में चुनाव जीतें।
कांग्रेस के अलावा भाजपा के लिए यह चुनाव इसलिए अहम हो गए हैं कि पूर्व मुख्यमंत्री प्रो. प्रेम कुमार धूमल के बेटे अनुराग ठाकुर और पूर्व केंद्रीय मंत्री शांता कुमार दोनों यह चुनाव लड़ रहे हैं। अनुराग ठाकुर जहां भारतीय जनता युवा मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं वहीं चुनाव में उनके प्रदर्शन को पूर्व मुख्यमंत्री धूमल के साथ जोड़कर देखा जाएगा। अनुराग ठाकुर वाली हमीरपुर लोकसभा सीट पर कांग्रेस पिछले कई चुनावों से लगातार पराजय का सामना करती आ रही है। इसलिए भाजपा के लिए यह जरूरी है कि इस बार भी यहां जीत के सिलसिले को बरकरार रखा जाए।
जहां तक कांगड़ा लोकसभा सीट का सवाल है शांता कुमार इस सीट पर अपने राजनीतिक जीवन का आखिरी चुनाव लड़ रहे हैं। राष्ट्रीय स्तर के नेता की छवि होने के कारण उनके लिए भी यह बहुत जरूरी है कि वे हर हाल में चुनाव जीतें। अगर भाजपा इस सीट को हार जाती है तो माना जाएगा कि शांता कुमार का जादू अब चलना बंद हो गया है। यही वजह है कि जिस तरह से वीरभद्र सिंह के लिए मंडी सीट पर प्रतिभा सिंह की विजय और प्रो. धूमल के लिए हमीरपुर सीट पर अनुराग ठाकुर की जीत जरूरी है उसी तरह कांगड़ा सीट पर शांता कुमार के लिए जीतना आवश्यक है।


Comments Off on राज्य में चुनाव बना दिग्गजों के लिए प्रतिष्ठा का प्रश्न
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.