4 करोड़ की लागत से 16 जगह लगेंगे सीसीटीवी कैमरे !    इमीग्रेशन कंपनी में मिला महिला संचालक का शव !    हरियाणा में आर्गेनिक खेती की तैयारी, किसानों को देंगे प्रशिक्षण !    हरियाणा पुलिस में जल्द होगी जवानों की भर्ती : विज !    ट्रैवल एजेंट को 2 साल की कैद !    मनाली में होमगार्ड जवान पर कातिलाना हमला !    अंतरराज्यीय चोर गिरोह का सदस्य काबू !    एक दोषी की पुनर्विचार याचिका पर सुनवाई 17 को !    रूस के एकमात्र विमानवाहक पोत में आग !    पूर्वोत्तर के हिंसक प्रदर्शनों पर लोकसभा में हंगामा !    

ऊंच-नीच की बात करना अच्छा नहीं

Posted On May - 9 - 2014

मोतीहारी, 9 मई (भाषा)
जाति से जुड़े विषय को उठाते हुए भाजपा के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेन्द्र मोदी ने कांग्रेस पर ‘अस्पृश्यता और घृणा’ की राजनीति शुरू करने और सोनिया गांधी पर चुनाव में अपने खोए राजनीतिक आधार को हासिल करने के लिए ‘ऊंच-नीच’ की राजनीति करने के आरोप लगाए। मोदी ने लोगों से पूछा, ‘देश में अस्पृश्यता की राजनीति किसने शुरू की ? ‘
भाजपा प्रत्याशी राधामोहन सिंह के पक्ष में चुनावी रैली को संबोधित करते हुए मोदी ने कहा, ‘जो लोग वोटवैंक की राजनीति कर रहे हैं, उन्होंने ही अस्पृश्यता की राजनीति भी शुरू की है।’ उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष पर ऊंच और नीच की राजनीति करने का आरोप लगाया।  उन्होंने कहा, ‘ मैडम आप पार्टी अध्यक्ष है, आप ऊंच और नीच जैसी शब्दावली का उपयोग कर रही हैं, यह अच्छा नहीं है।”
मनमोहन का बचपन भी गरीबी में बीता: सोनिया   
महाराजगंज, 9 मई (भाषा). कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने भाजपा के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेन्द्र मोदी के बार-बार यह कहने पर कि उन्होंने बचपन में बहुत कठिनाइयां झेली हैं, यहां कहा कि प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह का बचपन भी कठिनाइयों में गुजरा है। कांग्रेस अध्यक्ष ने चुनावी जनसभा को संबोधित करते हुए मोदी के विकास के नजरिए (गुजरात माडल) पर भी सवाल खड़ा किया और आरोप लगाया कि वे देश की जनता को गुमराह कर रहे हैं। मोदी के बार-बार यह कहने पर कि उनका बचपन गरीबी और कठिनाई में गुजरा है और वे गरीबी को समझते हैं, सोनिया ने कहा कि प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह का बचपन भी बहुत कठिनाइयों के बीच गुजरा है।
आलोचना से छूट नहीं मिली: जेटली
नयी दिल्ली : भाजपा ने वाराणसी में नरेन्द्र मोदी को रैली करने की इजाजत नहीं दिए जाने पर चुनाव आयोग पर अपने हमले को उचित ठहराते हुए कहा कि संवैधानिक निकायों को आलोचना से छूट नहीं मिली है। भाजपा नेता अरूण जेटली ने अपने ब्लॉग में लिखा, ‘क्या संवैधानिक संस्थाओं को आलोचना से मुक्ति हासिल है? मैं इस विचार को स्वीकार नहीं करता कि महज इस कारण से किसी संस्था की आलोचना नहीं की जा सकती है कि उसका सृजन संविधान से हुआ है।’


Comments Off on ऊंच-नीच की बात करना अच्छा नहीं
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.