लघु सचिवालय में खुला बेबी डे-केयर सेंटर !    बुजुर्ग कार चालकों से होने वाले हादसे रोकने के विशेष उपाय !    कुत्तों ने सीख लिया है भौंहें मटकाना! !    शांत क्षेत्र में सैन्य अफसरों को फिर से मुफ्त राशन !    योगी के भाषण, संदेश संस्कृत में भी !    फर्जी फर्म बनाकर किया 50 करोड़ से ज्यादा जीएसटी का फर्जीवाड़ा !    जादू दिखाने हुगली में उतरा जादूगर डूबा !    प्राकृतिक स्वच्छता के लिए यज्ञ जरूरी : आचार्य देवव्रत !    मानवाधिकार आयोग का स्वास्थ्य मंत्रालय, बिहार सरकार को नोटिस !    बांग्लादेश ने विंडीज़ को 7 विकेट से रौंदा, साकिब का शतक !    

ज्ञान का घमंड

Posted On July - 8 - 2012

चित्रांकन : संदीप जोशी

बात उन दिनों की है जब राजा पांड्य राज करते थे। उनके दरबार में कोलाहल नामक एक विद्वान ब्राह्मण राजपंडित के पद पर नियुक्त था। वह काफी विद्वान और घमंडी था। यही कारण था कि राजा पांड्य इसका बहुत सम्मान करते थे। उसका एक ही कार्य था कि वह विद्वान ब्राह्मïणों से शास्त्रार्थ करता था और शास्त्रार्थ में पराजित होने वाले ब्राह्मïणों से प्रति वर्ष कर वसूला करता था। एक बार भाष्याचार्य नामक विद्वान ब्राह्मïण ने उससे शास्त्रार्थ करने की हिम्मत की और उन्हें उससे पराजित होना पड़ा। शर्त के अनुसार उन्हें  प्रतिवर्ष कोलाहल को कर देना पड़ता था। उनकी आर्थिक स्थिति ठीक नहीं थी, फिर भी किसी प्रकार कर दे रहे थे। यह बात उन्होंने अपने शिष्यों को नहीं बतायी। अपनी आर्थिक स्थिति  ठीक नहीं  होने के कारण वे कई वर्षों तक कर नहीं चुका पाये  और किसी आवश्यक कार्य से कहीं चले गये।
उन्हीं के एक शिष्य थे यमुनाचार्य, जिन्होंने वैष्णव सम्प्रदाय की स्थापना की थी। वे बचपन से ही काफी प्रतिभाशाली और विद्वान थे। उनकी विशेषता यह थी कि वे जिस पुस्तक को पढ़ लेते, वह उनको कंठस्थ हो जाया करती थी। भाष्याचार्य कीअनुपस्थिति में कोलाहल का सेवक आया और यमुनाचार्य से कर की मांग करने लगा। कर की बात सुनकर यमुनाचार्य को बहुत आश्चर्य हुआ और बोले, ‘ किस बात का कर? तुम्हें किसने कर लेने के लिए भेजा है? मेरे गुरु तो किसी को कर नहीं देते।’
सेवक ने सोचा यह जानबूझकर ऐसा बोल रहा है। यही सोचकर क्रोधित होकर बोला, ‘जानकर भी अनजान बन रहे हो। तुम्हारे गुरु हमारे राजपंडित से शास्त्रार्थ में पराजित हो गये हैं। नियमानुसार पराजित होने वाले प्रत्येक विद्वान को कर देना पड़ता है। तुम्हारे गुरु ने पिछले कई वर्षों से कर नहीं दिया है और मुंह छिपाये फिर रहा है। यदि अपना कुशल चाहते हो, तो हमारा कर दो। वरना इसका परिणाम बुरा होगा।’
उस समय यमुनाचार्य की आयु मात्र बारह वर्ष की थी। उन्हें अपने गुरु का अपमान सहन  न हुआ और बोल पड़े, ‘यदि कोलाहल को अपने ज्ञान का घमंड हो गया  है । जाओ, जाकर अपने राजपंडित से कह दो, पहले भाष्याचार्य के शिष्य यमुनाचार्य को शास्त्रार्थ में पराजित करें, फिर कर लेने की बात करें।’  सेवक ने राजदरबार में जाकर कोलाहल को सारी बातें बतायीं। उस समय दरबार में राजा पांड्य भी मौजूद थे। यह सुनकर कोलाहल भी आग -बबूला हो गया और उसने राजा से कहा, ‘महाराज, उस धृष्टï बालक को बुलाया जाये।’
राजा ने तुरंत अपने सेवकों को आदेश दिया, ‘जाओ और उस बालक को शीघ्र दरबार में पेश करो।’  सेवक ने शीघ्र यमुनाचार्य के पास जाकर राजा का संदेश सुनाया और दरबार में चलने को कहा। यमुनाचार्य बड़े गर्व से बोले, ‘जाओ और अपने राजा से कह दो हम इस प्रकार राजदरबार नहीं जा सकते। यदि वे राज पंडित के साथ शास्त्रार्थ के लिए बुलाना चाहते हैं, तो मुझे सम्मानपूर्वक आमंत्रित करें और मेरे आने के लिए सवारी भेजें।’
सेवक ने जाकर राजा को सारी बात बतायी। राजा ने तुरंत आमंत्रण पत्र और सवारी सहित ससम्मान यमुनाचार्य को लाने के लिए सेवक को भेजा। उस समय तक उनके गुरु भाष्याचार्य भी बाहर से लौट आये थे। अपने द्वार पर राजा का रथ देखकर, वे भयभीत हो गये। उन्होंने सोचा कि शायद कोलाहल का कर न देने के कारण राजा के अधिकारी उन्हें दंड देने के लिए आये हैं। तभी सेवक ने आकर यमुनाचार्य को राजा का निमंत्रण पत्र दिया। भाष्याचार्य को बड़ा आश्चर्य हुआ। यमुनाचार्य ने अपने गुरु को सारी बातें बता दीं और कहा, ‘मैं कोलाहल के घमंड को चकनाचूर कर दूंगा। आप मुझे आशीर्वाद दें।’ यह सुनकर भाष्याचार्य ने अपना सिर पीटते हुए कहा, ‘यमुना, यह तूने क्या किया? कोलाहल जैसे विद्वान को पराजित करना कोई सरल कार्य नहीं। तू अभी बच्चा है। फिर तेरे लिए भी प्रतिवर्ष मुझे कर देना होगा। मेरा कहा मान तू अपना हठ छोड़ दे। राजा और कोलाहल से क्षमा मांग ले।’ लेकिन यमुनाचार्य अपनी जिद पर अड़े हुए थे। गुरु के लाख समझाने पर भी नहीं माने।
राज दरबार में राजा ने सभा में उन्हें ऊंचा आसन दिया। बालक होकर भी यमुनाचार्य सबसे अधिक प्रभावशाली लग रहे थे।  उस दिन दरबार में महारानी भी मौजूद थीं। तब बालक को देखकर बोली, ‘यह तो साक्षात् विद्या का अवतार है। यह बालक अवश्य कोलाहल को पराजित करेगा।’ यह सुनकर राजा बोला, ‘क्या कहती हो रानी? कोलाहल जैसे विद्वान को पराजित करने की हिम्मत बड़े-बड़े विद्वानों में नहीं है, फिर इस बालक की क्या बिसात! कोलाहल जैसे विद्वान तो इसके गुरु भी नहीं हैं।’
इस बात को लेकर दोनों में बहस शुरू हो गयी। राजा ने उत्तेजित होकर कहा, ‘यदि तुम्हारी बात सच निकली, तो मैं इसे अपना आधा राज्य दे दूंगा।’
रानी भी कहां पीछे रहने वाली थी। बोली, ‘यदि आप की बात सच निकली, तो मैं आपकी दासी की दासी बनकर रहूंगी।’
शास्त्रार्थ आरंभ हुआ। राजा को ही निर्णायक बनाया गया। राजा ने पहले यमुनाचार्य से कहा, ‘आप प्रश्न पूछिए। यदि निश्चित समय में उत्तर नहीं मिला, तो कोलाहल की हार मानी जाएगी।’
यमुनाचार्य ने प्रश्न किया, ‘शास्त्रों में कहा गया है, यह संसार अपार है। भगवान ने एक से एक बड़ा पापी और धर्मात्मा संसार में उत्पन्न किया है। कहा जाता है, राजा पांड्य बड़े धर्मात्मा हैं। क्या यह सबसे बड़े धर्मात्मा हैं?’ सुनकर कोलाहल चुप हो गए। अगर सबसे बड़ा धर्मात्मा राजा को बताये, तो शास्त्र के विरुद्ध। अगर  न बताये तो राजा के अपमान का भय। वह कोई उत्तर न दे सका। यमुनाचार्य ने फिर प्रश्न किया, ‘सतियों में सावित्री का नाम आता है। आपने कई बार अपनी रानी को महान सती बताकर प्रशंसा की है। क्या वह सावित्री से भी महान है। हैं तो प्रमाण दीजिए।’ बेचारे कोलाहल को काटो तो खून नहीं। कोलाहल को कोई उत्तर न सूझ पड़ा। वे चुपचाप सिर झुकाए खड़े थे। यमुनाचार्य ने राजा से कहा, ‘आप अपना निर्णय दें।’ राजा ने हाथ उठाकर यमुनाचार्य को विजयी घोषित कर दिया। शर्त के अनुसार उन्हें आधा राज्य दे दिया गया। कोलाहल को भी अपनी गलती का अहसास हो गया। उसने उसी दिन से ज्ञान का घमंड न करने और किसी पराजित विद्वान से कर न लेने का संकल्प कर लिया।

—पुष्पेश कुमार पुष्प


Comments Off on ज्ञान का घमंड
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.