32 देशों के 239 वैज्ञानिकों ने कहा-हवा में भी है कोरोना! !    श्रीनगर में लगा आधा ‘दरबार’, इस बार जम्मू में भी खुला नागरिक सचिवालय! !    कुवैत में 'अप्रवासी कोटा बिल' पर मुहर, 8 लाख भारतीयों पर लटकी वापसी की तलवार !    मुम्बई, ठाणे में भारी बारिश !    हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे पर ढाई लाख का इनाम, पूरे यूपी में लगेंगे पोस्टर !    एलएसी विवाद : पीछे हटीं चीन और भारत की सेनाएं, डोभाल ने की चीनी विदेश मंत्री से बात! !    अवैध संबंध : पत्नी ने अपने प्रेमी से करवायी पति की हत्या! !    कोरोना : भारत ने रूस को पीछे छोड़ा, कुल केस 7 लाख के करीब !    भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा ने साधा राहुल गांधी पर निशाना !    राहुल का कटाक्ष : हारवर्ड के अध्ययन का विषय होंगी कोविड, जीएसटी, नोटबंदी की विफलताएं !    

उहा रोटी, उहा दाल

Posted On February - 27 - 2011

टोपी दे रंग

गोविन्द राकेश
हाली हिक महीना मसें ही थ्या होसे जै वेले हर आदमी दे सिर ते कुई न कुई टोपी होंदी हई। ऐ टोपी या मफलर या सिर कूं ठड तों लुकावण दा हिक जरिया हई। हुण टोपी तुआडे रुत्बे दी हिक निशानी हे। टोपी पावण दा रिवाज किथों शुरू थ्या, मेकूं पता कैनी, पर इतना पता जरूर हे कि ऐ पटके (पगड़ी) दी छोटी धी हे, पटके दी हमशक्ल अते हंूदा छोटा रूप हे। बहरहाल इंसान अते इंसानियत नाल टोपी दा अपणा हिक रिश्ता हे। ऐ रिश्ता ऐझा पक्का हे कि हिक-डिढ (डेड़) गिठ कपड़े दी सूरत विच इंसान दे रोब, मान-सम्मान अते हूंदे चौधरपणे दा अहसास करे वेंदी है। डूझे पासे इंसान अपणी टोपी दी शान वधावण दी खातिर डूझे दी टोपी लाहवण विच कुई कोर-कसर बाकी कैनी छूड़ेंदा।
अज मेडी अंखी दे सामणे गांधीजी दी तसवीर याद पई अमदी हे जैदे विच गांधीजी जंत्रु (जनेऊ)  पा के सिर ते टोपी पाती हथ विच डांग चाती सिर दी झंड करवई अते मथे ते तिलक लयी खडिऩ। हीकूं जंत्रु पावण (यज्ञोपवीत) दी रसम आख्या वेंदे, जैदा मतलब से हे कि छोटे वाल (शिशु अवस्था) तों हुण अगली पढऩ अते ब्रह्मïचर्य पालन करण दी उमर विच आ ग्ये। अगली उमर जिम्मेवारी अते जिंदगी दा पाठ पढऩ दी बारी आ गई हे। पूरे पजवी (पचीस) साल दी उमर तक विद्या पढ़ ते आदमी अपणे बचपन तों युवा अवस्था दी दहलीज ते कदम रखेदे।
जिंदगी दी अगली उमर विच ओ टोपी पावे, ऐ जरूरी भावें कैनी लेकिन ओ टोपी दी अहमियत तों पूरी तरह वाकिफ हे। अते टोपी कूं अपणी इज्जत दा दर्जा डेदे। अपणी टोपी बचावण अते वधावण वास्ते ओ कही वी हद तक वञ सगदे।
हुण तां टोपी वी कई किस्म दी थी गई हे। चिट्टïी (गांधी) टोपी, पीली (आरएसएस) टोपी, लाल (मुलायम सिंह दी समाजवादी पार्टी) टोपी, सावी (अजीतसिंह दा राष्टï्रीय लोकदल) टोपी अते पता नींह वे केहड़े-केहड़े रंगे दी टोपी।
लेकिन पगड़ी दी शान ता हाली वी बरकरार हे। सफेद रंग दी पगड़ी अमन, भईचरे अते प्यार दी निशानी हे अते हुण तां पूरे मुल्क ते सफेद पगड़ी दाही राज हे। लेकिन कुझ लोगे कूं ऐ रंग रास नींह अमदा। नाराज अतेहताश बन्दये ने अपणी पगड़ी दा रंग ही बदल डित्ते, पंजाब विच नीली अते राजस्थान दे पेंडू इलाकें विच चितकवरी पगड़ी दी हालीकी तूती वजदी हे। आखिर बजे क्यूं न। आपा वी तो सारे मनेंदू सिंह इज किंग।
हरियाणे विच अपणी पगड़ी अते टोपी दी इज्जत दा कितना ख्याल हे कहीं दे कौल वी लुक्या होया कैनी। झूठी पता नींह सच्ची मरग वट खम्दी पगड़ी दी इज्जत दे नां ते खाप-पंचायतें दे फैसले मुल्क दे कानूने नाल टक्कर घिन्नण दी हिम्मत पे करेदिन। मुल्क दी बिगड़दी हालत वास्ते असाडी खुद दी पगड़ी कितनी जिम्मेवार हे, ऐ सोचण दा मसला हे।
चाहीदा तां ऐ हे कि अपणी पगड़ी/टोपी दी खुद ही हिफाजत करीजे। लेकिन कहीं दफा हालात नाल वी समझौता करणा पमदे। समझौता भावें हर मुसीबत दाहल होदे लेकिन कुर्सी दी खातिर मुल्क दी इज्जत नाल खेडण दा कहीं कूं वी हक कैनी। भावें ओ भई वल्लपे दी सरकार (साझा सरकार) ही क्यूं न होवे। इंथां तां पूरे मुल्क दी पगड़ी दा सवाल हे अते खुद कूं बेकसूर अते पाक-साफ आखण नाल जान कैना छुटसे।
संभल के पांव रखना,
महफिले रिंदा में ऐ वायज,
यहां पगड़ी उछलती है,
इसे मयखाना कहते हैं।


Comments Off on उहा रोटी, उहा दाल
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.