सोना तस्करी मामला : केरल के आईएएस अधिकारी से 9 घंटे तक पूछताछ ! !    बैगन-आर और बलेनो के ईंधन पंप खराब, 1.35 लाख कारें वापस मंगाई !    कोरोना : देश में एक दिन में रिकार्ड 29,429 नये मामले! !    सीबीएसई ने घोषित किया 10वीं कक्षा का परिणाम !    संयुक्त राष्ट्र के उच्च स्तरीय सत्र को संबोधित करेंगे मोदी !    ट्रंप ने अंतर्राष्ट्रीय छात्रों से संबंधित वीजा नीति की रद्द, भारतीय विद्यार्थियों को मिली राहत! !    सुक्खा गिल लम्मे गैंग ने की मोगा में व्यापारी की हत्या, फेसबुक पर ली जिम्मेदारी! !    पायलट बना सकते हैं अपनी अलग पार्टी, कहा-भाजपा में शामिल होने से किया इनकार! !    विधायकों के स्टडी टूर पर बैन, अब नहीं जा सकेंगे राज्य से बाहर !    पायलट को हटाए जाने के बाद प्रियंका ने की सोनिया से मुलाकात !    

ओश से सुरक्षित निकाले गये 78 भारतीय

Posted On June - 15 - 2010

नई दिल्ली, 14 जून (भाषा)। हिंसाग्रस्त किर्गिस्तान के ओश शहर में फंसे 77 भारतीय छात्रों और एक प्रोफेसर को सुरक्षित निकालकर देश की राजधानी बिश्केक पहुंचा दिया गया है।
विदेश मंत्रालय के सूत्रों ने बताया कि किर्गिस्तान में भारतीय दूतावास ने किर्गिज अधिकारियों के साथ मिलकर 77 छात्रों और एक प्रोफेसर को ओश शहर में स्थित भारतीय सांस्कृतिक संबंध परिषद से बाहर निकालकर देश की राजधानी बिश्केक पहुंचा दिया है। सूत्रों ने कहा कि बाकी भारतीयों को ओश और जलालाबाद से निकालने का प्रयास जारी है।
हिंसाग्रस्त किर्गिज शहर में 100 से ज्यादा भारतीय फंसे हुए थे जो पिछले तीन दिनों से जातीय हिंसा से ग्रस्त है। हिंसा में अब तक 113 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। भारतीय विदेश मंत्रालय ने इससे पहले एक बयान जारी कर कहा था, ‘कानून-व्यवस्था की खराब स्थिति के कारण दक्षिण किर्गिस्तान में करीब 116 भारतीय नागरिक फंसे हुए हैं।’  मंत्रालय ने कहा था, ‘इनमें 15 छात्र जलालाबाद में और करीब 99 छात्र, एक प्रोफेसर और एक व्यवसाई ओश शहर में फंसा हुआ है।’ इसने कहा, ‘हमारा दूतावास कई भारतीय नागरिकों के साथ ही विदेश मंत्रालय एवं सुरक्षा एजेंसियों सहित किर्गिस्तान सरकार के संबंधित विभाग के नियमित संपर्क में है।’


Comments Off on ओश से सुरक्षित निकाले गये 78 भारतीय
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.