लघु सचिवालय में खुला बेबी डे-केयर सेंटर !    बुजुर्ग कार चालकों से होने वाले हादसे रोकने के विशेष उपाय !    कुत्तों ने सीख लिया है भौंहें मटकाना! !    शांत क्षेत्र में सैन्य अफसरों को फिर से मुफ्त राशन !    योगी के भाषण, संदेश संस्कृत में भी !    फर्जी फर्म बनाकर किया 50 करोड़ से ज्यादा जीएसटी का फर्जीवाड़ा !    जादू दिखाने हुगली में उतरा जादूगर डूबा !    प्राकृतिक स्वच्छता के लिए यज्ञ जरूरी : आचार्य देवव्रत !    मानवाधिकार आयोग का स्वास्थ्य मंत्रालय, बिहार सरकार को नोटिस !    बांग्लादेश ने विंडीज़ को 7 विकेट से रौंदा, साकिब का शतक !    

डिजीटल बॉल पैन

Posted On May - 26 - 2010
कंप्यूटर उद्योग का पिछले काफी समय से यही प्रमुख लक्ष्य रहा है कि हाथ से लिखे शब्दों को पढऩे में समर्थ कोई विश्वसनीय सॉफ्टवेयर विकसित किया जा सके। यह नई तकनीक हालांकि हमारे अपठनीय घसीट लेखन को भी डिजिटल दुनिया की मुख्यधारा में ले आएगी लेकिन इसका अर्थ यह नहीं कि कंप्यूटरों के ‘की बोर्डकी उपयोगिता ही समाप्त हो जाएगी। जहां तक लिखने का सवाल है, कलम और कागज को न तो कोई भी उपकरण अब तक मात दे सका है और न ही दे सकता है।
हस्तलिखित सामग्री को डिजिटल डाटा के कंप्यूटर नहीं बदल पाए लेकिन अब नया सॉफ्टवेयर बेहतर हार्डवेयर और हाथ में पकड़े जा सकने वाले उपकरणों की सफलता ने कंप्यूटर निर्माण करने वाली कंपनियों को ‘इलैक्ट्रॉनिक लेखन
पर पुनर्विचार करने को विवश कर दिया है। इस तरह की खोजों को ‘डिजिटल इंकके रूप में जाना जाता है। इनमें सबसे अच्छी मशीन आईबीएम की ‘थिंक पैड ट्रांसनोटहै। हालांकि ट्रांसनोट हस्तलेखन को पढऩे की कोशिश नहीं करता और न ही उसे कंप्यूटर में दर्ज करता है लकिन यह आपकी आड़ी-तिरछी लिखावट की तसवीर खींच लेता है जिसे कंप्यूटर में सुरक्षित रखा जा सकता है और उसमें फेरबदल भी किया जा सकता है।
600 मैगा हाट्र्ज के ‘पेंटियम 3
प्रोसेसर के साथ लगा ट्रांसनोट असाधारण-सा नजर आता है। यह लैपटॉप और इलैक्ट्रॉनिक लीगल पैड का मिश्रण सा लगता है। ए-4 पेपर के आकार का पैड पैनल में जुड़ा होता है। इसका कनेक्शन की बोर्ड और डिस्पले स्क्रीन से है। विशेष रूप से बनाये गये  डिजिटल बॉल पैन और पैड में लगे सेंसर आपके शब्दों व रेखाचित्रों को दर्ज कर लेते हैं जिन्हें बाद में आप कंप्यूटर में फीड कर सकते हैं या ईमेल भी कर सकते हैं।
-मीडिया इंटरटेनमेंट


Comments Off on डिजीटल बॉल पैन
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.