पराली से धुआं नहीं अब बिजली बनेगी !    विवाद : पत्नी को पीट कर मार डाला !    हरियाणा : कांग्रेस पहुंची चुनाव आयोग !    बाबर की ऐतिहासिक भूल सुधारने की जरूरत : हिन्दू पक्ष !    आतंकियों की घुसपैठ कराने की कोशिश में पाकिस्तान !    आस्ट्रेलियाई महिला टी20 टीम को पुरुष टीम के बराबर मिलेगी इनामी राशि !    पनामा लीक : दिल्ली हाईकोर्ट ने मांगी स्टेटस रिपोर्ट !    हादसे में परिवार के 3 सदस्यों समेत 5 की मौत !    पुलिस स्टेट नहीं बन रहा हांगकांग : कैरी लैम !    प्रदर्शन के बाद खाताधारक की हार्ट अटैक से मौत !    

सीडी ‘बनावटी’, धूमल पाक-साफ

Posted On March - 10 - 2010

शशिकांत/ट्रिब्यून न्यूज सर्विस
शिमला, 9 मार्च। करीब दो महीनों तक हिमाचल की राजनीति को गरमाए रखने वाली दो बहुचर्चित ऑडियो सीडी के बारे में हुई जांच का खुलासा आखिर आज हो ही गया। मुख्यमंत्री प्रो. प्रेम कुमार धूमल और विजिलेंस प्रमुख डीएस मिन्हास की आवाजों वाली इन दोनों सीडियों के बारे में प्राप्त हुई फोरेंसिक प्रयोगशाला की रिपोर्ट को भी आज सार्वजनिक कर दिया गया। मुख्यमंत्री ने खुद विधानसभा में इस बारे में जानकारी देते हुए फोरेंसिक रिपोर्ट और राज्य सीआईडी द्वारा की गई जांच-पड़ताल की जानकारी सदन को दी। उन्होंने इस मामले में एफआईआर दर्ज किए जाने की घोषणा भी की। फोरेंसिक रिपोर्ट में कहा गया है कि दोनों ऑडियो सीडी में जो बातचीत है वह काट-छांट कर और एडिटिंग करके रिकॉर्ड की गई है। इसमें निरंतरता का भी अभाव है और पांच जगह निरंतरता नहीं पाई गई है। इसे एक सुनियोजित ढंग से इधर-उधर रिकॉर्ड हुई बातचीत को मिलाकर तैयार किया गया है। जिन बातों को जोड़कर वार्तालाप का रूप दिया गया है वास्तव में वे अलग-अलग अवसरों पर कही गई है।
गौरतलब है कि दैनिक ट्रिब्यून ने आज प्रकाशित अपने एक समाचार में सबसे पहले सीडी की इस जांच से जुड़े तथ्यों को उजागर कर दिया था। खबर में फारेंसिक प्रयोगशाला से हासिल रिपोर्ट से जुड़े मुख्य तथ्यों की जानकारी भी पहले ही दे दी गई थी।
राज्य सीआईडी ने इस मामले में शिमला स्थित सीआईडी पुलिस स्टेशन में एक केस दर्ज कर लिया है। एफआईआर नंबर 7/10 के तहत दर्ज इस केस में हालांकि किसी का नाम नहीं लिखा गया है लेकिन किसी इलेक्ट्रॉनिक दस्तावेज के तहत जाली दस्तावेजों को बनाकर किसी की इज्जत को ठेस पहुंचाने की बात इसमें कही गई है। अब जबकि यह केस दर्ज हो गया है तो पुलिस इस मामले में अब गिरफ्तारियां भी कर सकती है।
मुख्यमंत्री ने इस बारे में जानकारी देते हुए बताया कि राज्य सीआईडी ने दोनों ऑडियो सीडियों को जांच के लिए चंडीगढ़ और गांधीनगर स्थित फोरेंसिक प्रयोगशाला को भेजा था। सरकार को फिलहाल गांधी नगर प्रयोगशाला से रिपोर्ट प्राप्त हुई है। इस रिपोर्ट में साफ कहा गया है कि यह सीडी बनावटी है और इसे जोड़तोड़ कर बनाया गया है। मुख्यमंत्री ने हालांकि सीधे तौर पर सीडी को बनाने के लिए जिम्मेदार लोगों का नाम नहीं लिया मगर इशारों ही इशारों में उन्होंने कांग्रेस नेताओं पर इस मामले में निशाना जरूर साधा। उन्होंने कहा कि अब जबकि इस मामले में एफआईआर दर्ज करने का फैसला ले लिया गया है तो सीडी को बनाने वाले लोग भी जल्द ही बेनकाब हो जाएंगे। उन्होंने कहा कि इस सीडी को जिन लोगों ने कुरियर के माध्यम से भेजा उन्होंने अपना नाम और पता गलत लिखाया।
मुख्यमंत्री ने कहा कि इस सीडी को बनाने वालों ने इसे बनाने की तारीख जानबूझ कर 31 दिसंबर, 1994 दर्शाई है। हैरानी की बात है कि केंद्रीय इस्पात मंत्री वीरभद्र सिंह वाली ऑडियो सीडी पर यह तारीख पहली जनवरी, 1995 दर्शाई गई है। संभवत: यह जताने का प्रयास किया जा रहा है कि वीरभद्र सिंह वाली सीडी को बनाने के काम को मेरे कहने पर अंजाम दिया गया है। जबकि वास्तविकता यह है कि 1994 में मैं एक सांसद था और तब मैं मौजूदा विजिलेंस प्रमुख डीएस मिन्हास को जानता तक नहीं था। अंदाजा लगाया जा सकता है कि यह काम किन लोगों ने किस मकसद से किया है। उन्होंने कहा कि एफआईआर दर्ज होने के बाद अब पुलिस सारे मामले का खुलासा जल्दी ही कर देगी।


Comments Off on सीडी ‘बनावटी’, धूमल पाक-साफ
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.