भगौड़े को पकड़ने गयी पुलिस पर हमला, 3 कर्मी घायल !    एटीएम को गैस कटर से काट उड़ाये 12.61 लाख !    कुल्लू में चरस के साथ 2 गिरफ्तार !    बारहवीं की छात्रा ने घर में लगाया फंदा !    नेपाल को 56 अरब नेपाली रुपये की मदद देगा चीन !    इस बार अब तक कम जली पराली !    पीएम की भतीजी का पर्स चुरा सोनीपत छिप गया, गिरफ्तार !    फरसा पड़ा महंगा, जयहिंद को आयोग का नोटिस !    महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में प्रचार करेंगी मायावती !    ‘गांधीजी ने आत्महत्या कैसे की?’ !    

समूचा विपक्ष शेष सत्र के लिए निलंबित

Posted On March - 9 - 2010

हरियाणा विधानसभा

महंगाई पर चर्चा की मांग को लेकर हंगामा

प्रश्नकाल के बाद तीन बार स्थगित हुई कार्रवाई

दिनेश भारद्वाज/हमारे प्रतिनिधि
चंडीगढ़, 8 मार्च। हरियाणा विधान के बजट सत्र के दौरान महंगाई के मुद्दे पर चर्चा की मांग पर अड़े विपक्ष को आज शेष अवधि के लिए

सोमवार को हरियाणा विधानसभा से वॉकआउट करते इनेलो प्रमुख ओमप्रकाश चौटाला व अन्य। -दैनिक ट्रिब्यून/मनोज महाजन

निलंबित कर दिया गया।
शून्यकाल में भाजपा विधायक दल के नेता अनिल विज ने काम रोको प्रस्ताव का हवाला देते हुए महंगाई पर चर्चा किए जाने की मांग की। पूर्व में यह प्रस्ताव दे चुके इनेलो विधायक दल के नेता ओमप्रकाश चौटाला ने भी महंगाई पर चर्चा किए जाने का मुद्दा उठाया। इस पर सदन में हंगामा हो गया तीन बार सदन की कार्रवाई स्थगित की गई। एक बार फिर जब  अध्यक्ष ने कार्रवाई शुरू करानी चाही तो विपक्ष ने हंगामा कर दिया, इस पर दोनों विपक्षी दलों (इनेलो व भाजपा) को बजट सत्र की शेष कार्रवाई के लिए निलंबित कर दिया गया। सदन में हाजिर नहीं होने के कारण भाजपा विधायक कविता जैन व हजकां विधायक कुलदीप बिश्नोई निलंबन से बच गए।
इससे पूर्व प्रश्नकाल में भी कई बार सवाल-जवाब को लेकर माहौल गरमाया, लेकिन बाद में स्थिति सामान्य हो गई।  प्रश्नकाल की समाप्ति के बाद शून्यकाल में भाजपा विधायक दल के नेता अनिल विज ने विधानसभा अध्यक्ष हरमोङ्क्षहदर ङ्क्षसह चट्ठा से मंहगाई के मुद्दे पर चर्चा के लिए उनके द्वारा दिए गए काम रोको प्रस्ताव की स्थिति जाननी चाही। इस पर चट्ठा ने कहा कि  उनका काम रोको प्रस्ताव अस्वीकार कर दिया गया है, क्योंकि ऐसा ही एक प्रस्ताव इनेलो की ओर से भी आया था, जिसे उन्होंने ध्यानाकर्षण प्रस्ताव में तबदील करते हुए कल 9 मार्च की कार्रवाई में शामिल करने के लिए रख लिया है। उन्होंने विज से कहा कि  वह अपने विचार कल आने वाले ध्यानाकर्षण प्रस्ताव चर्चा के दौरान रख सकते है। चट्ठा की दलील से विज संतुष्ट नहीं हुए और वह अध्यक्ष के आसन के समक्ष पहुंच गए। इस दौरान उनके साथ प्रदेश भाजपा प्रदेशाध्यक्ष कृष्णपाल गुर्जर भी थे।
इनेलो विधायक अशोक अरोड़ा व रामपाल माजरा सहित अन्य कई सदस्य भी अध्यक्ष के आसन के सामने पहुंच गए और महंगाई पर चर्चा किए जाने की मांग उठाई। इनेलो  के ओमप्रकाश चौटाला ने अध्यक्ष से आग्रह किया कि पहले सबसे ज्वलंत मुद्दे महंगाई पर चर्चा कराई जाए।
जब शोर-शराबा जारी रहा तो अध्यक्ष ने सदन की कार्रवाई आधा घंटा के लिए स्थगित कर दी।  3.45 पर फिर से सदन की कार्रवाई शुरू हुई। कुलदीप शर्मा ने अभी बोलना भी शुरू नहीं किया था कि समूचा विपक्ष महंगाई के मुद्दे पर  एक बार फिर से नारेबाजी और शोर-शराबा करने लग गया। अध्यक्ष बार-बार विपक्ष से सदन की कार्रवाई चलने देने का आग्रह करते रहे, पर कोई असर होता न देख दूसरी बार 3.53 पर दस मिनट के लिए सदन की कार्रवाई स्थगित कर दी। चार बजकर चौदह मिनट पर फिर से सदन की कार्रवाई शुरू हुई और पहले की तरह विपक्ष का हंगामा जारी रहा। आखिर में अध्यक्ष ने दोनों विपक्षी दलों को यह कहते हुए कि अगर उन्हें कोई समस्या है तो वे उनसे आकर मिले लें, और आधे घंटे के लिए सदन की कार्रवाई स्थगित कर दी।
इस दौरान अध्यक्ष ने विपक्ष को नसीहत दी कि वह सदन को न चलने देकर लोकतंत्र की धज्जियां उड़ा रहा है तथा आम जनता के पैसे से चलने वाले सदन का बहुमूल्य समय नष्ट कर रहा है। उन्होंने एक बार फिर विपक्षी सदस्यों से अपनी सीटों पर जाने की अपील की लेकिन वे टस से मस नहीं हुए।  शोर-शराबे के बीच ही चट्ठा ने कांग्रेस सदस्य कुलदीप शर्मा को राज्यपाल के अभिभाषण पर चर्चा शुरू करने को कहा। शर्मा ने इस दौरान कुछ कहा लेकिन सदन में शोरगुल के बीच कुछ नहीं सुना जा सका। उन्होंने विपक्ष पर सदन का समय नष्ट करने की टिप्पणी की जिससे उनके और विपक्षी सदस्यों के बीच नोंक झोंक भी हुई। इस बीच विधानसभा अध्यक्ष ने विज सहित विपक्षी सदस्यों को चेतावनी दी कि वे उन्हें कार्रवाई के लिए मजबूर न करें। हंगामे के बीच एक मौके पर  अध्यक्ष ने कहा कि अच्छा हो अगर वे काम रोको की बजाय काम करो प्रस्ताव लेकर आए, मैं उसे एक मिनट में मंजूर कर लूंगा। उन्होंने विपक्ष को भरोसा दिलाया कि वे सत्तारूढ़ दल के मुकाबले विपक्ष को सदन में बोलने का पूरा मौका देंगे, लेकिन विपक्ष महंगाई पर ही अड़ा रहा। इस बीच संसदीय कार्यमंत्री रणदीप सुरजेवाला ने विपक्ष के रवैए को देखते हुए सदन में भाजपा, इनेलो और अकाली सदस्यों को सत्र की शेष अवधि के लिए निलम्बित करने का प्रस्ताव रखा,  जिसे विपक्षी सदस्यों के  हंगामे के बीच सत्तापक्ष के सदस्यों ने ध्वनिमत से पारित कर दिया। विधानसभा में इनेलो के 31 सदस्य हैं,  जबकि भाजपा के चार और अकाली दल का एक सदस्य है। भाजपा की कविता जैन आज सदन में नहीं होने के कारण वे निलंबन की कार्रवाई से बच गईं। इसके साथ ही अध्यक्ष ने सदन की कार्यवाही कल सुबह तक स्थगित कर दी।


Comments Off on समूचा विपक्ष शेष सत्र के लिए निलंबित
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.