पराली से धुआं नहीं अब बिजली बनेगी !    विवाद : पत्नी को पीट कर मार डाला !    हरियाणा : कांग्रेस पहुंची चुनाव आयोग !    बाबर की ऐतिहासिक भूल सुधारने की जरूरत : हिन्दू पक्ष !    आतंकियों की घुसपैठ कराने की कोशिश में पाकिस्तान !    आस्ट्रेलियाई महिला टी20 टीम को पुरुष टीम के बराबर मिलेगी इनामी राशि !    पनामा लीक : दिल्ली हाईकोर्ट ने मांगी स्टेटस रिपोर्ट !    हादसे में परिवार के 3 सदस्यों समेत 5 की मौत !    पुलिस स्टेट नहीं बन रहा हांगकांग : कैरी लैम !    प्रदर्शन के बाद खाताधारक की हार्ट अटैक से मौत !    

विज्ञान के झरोखे से

Posted On March - 13 - 2010

बच्चो, विज्ञान से संबंधित कुछ रोचक प्रश्नोत्तर नीचे दिए जा रहे हैं जो तुम्हारे ज्ञान में वृद्धि करने में सहायक होंगे।
0 आइसक्रीम का सेवन हानिकारक क्यों है?

—आïइसक्रीम का सेवन हानिकारक होता है। इसमें प्रयुक्त रासायनिक तत्व स्वास्थ्य के लिए नुकसानदेह रहते हैं। आइसक्रीम में तीस प्रतिशत बिना उबला तथा बिना छना पानी, छह प्रतिशत चर्बी और सात-आठ प्रतिशत शक्कर होती है। इसके अतिरिक्त अन्य रासायनिक तत्वों का भी प्रयोग होता है जो स्वास्थ्य के घोर शत्रु हैं।
0 चीनी रोगों की जनक क्यों मानी जाती है?
—चीनी शरीर को कोई पोषक तत्व नहीं देती अपितु उसके पाचन के लिए शरीर को शक्ति खर्च करनी पड़ती है। यह इंसुलिन बनाने वाली ग्रंथी की ताकत को नष्टï कर देती है जिससे मधुमेह जैसे रोग जन्म लेते हैं। विटामिन की दृष्टिï से चीनी मात्र कचरा है। चीनी खाने से कोलेस्ट्राल बढ़ जाता है और हृदय रोग पनपते हैं।
0 सभी देशों का समय एक जैसा क्यों नहीं होता है?
—समय का निर्धारण सूर्य के आधार पर किया जाता है। पृथ्वी के गोल होने के कारण सभी स्थानों पर सूर्योदय तथा सूर्यास्त एक समय पर नहीं होते। पूरब से पश्चिम की ओर बढऩे पर प्रतिदेशांतर चार मिनट विलंब से सूर्योदय और सूर्यास्त  होता है। इससे स्पष्टï है कि हर देश का ही नहीं बल्कि हर स्थान का समय भी अलग होता है।

0ठ्हर  पक्षी की चोंच भिन्न किस्म की क्यों रहती है?
—दरअसल, पक्षियों की चोंच वातावरण के अनुसार स्वयं को ढालने के आधार पर ही बनाई गई है। नुकीली महीन स्ट्रा जैसी, लम्बी अथवा सीधी चोंच इस बात का प्रमाण है कि पक्षी स्वयं को वातावरण मे अपने अस्तित्व को बनाए रख सकें तथा खाद्य पदार्थो की प्राप्ति में उन्हें कोई कठिनाई न हो।


Comments Off on विज्ञान के झरोखे से
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.