पराली से धुआं नहीं अब बिजली बनेगी !    विवाद : पत्नी को पीट कर मार डाला !    हरियाणा : कांग्रेस पहुंची चुनाव आयोग !    बाबर की ऐतिहासिक भूल सुधारने की जरूरत : हिन्दू पक्ष !    आतंकियों की घुसपैठ कराने की कोशिश में पाकिस्तान !    आस्ट्रेलियाई महिला टी20 टीम को पुरुष टीम के बराबर मिलेगी इनामी राशि !    पनामा लीक : दिल्ली हाईकोर्ट ने मांगी स्टेटस रिपोर्ट !    हादसे में परिवार के 3 सदस्यों समेत 5 की मौत !    पुलिस स्टेट नहीं बन रहा हांगकांग : कैरी लैम !    प्रदर्शन के बाद खाताधारक की हार्ट अटैक से मौत !    

भगदड़ हादसे के बाद कृपालु महाराज लापता

Posted On March - 6 - 2010

आश्रम प्रबंधन के खिलाफ मामला दर्ज

मनगढ़ हादसे में मारे गए अपने बेटे की अंत्येष्टिï के इंतज़ार में एक बुजुर्ग। प्रेट्र

प्रतापगढ़, 5 मार्च (भाषा)। मनगढ़ में एक आश्रम में मची भगदड़ में 63 महिलाओं और बच्चों की मौत होने के बाद पुलिस ने आश्रम प्रबंधन के खिलाफ आपराधिक लापरवाही का मामला दर्ज किया है, वहीं घटना के बाद से कृपालु महाराज लापता है।
प्रतापगढ़ के पुलिस अधीक्षक महेश कुमार मिश्रा नेे कहा कि कल का कार्यक्रम कृपालुजी परिषद के बैनर तले आयोजित किया गया था। इस परिषद के खिलाफ धारा 304 ए (लापरवाही बरतने के चलते जान लेने के आरोप) के तहत मामला दर्ज किया गया है। यह घटना प्रतापगढ़ से 60 किलोमीटर दूर मनगढ़ गांव में कल कृपालु महाराज के आश्रम में हुई, जहां महाराज की पत्नी की स्मृति में गरीब ग्रामीणों के लिए भंडारे का आयोजन किया गया था।
पुलिस के सर्कल ऑफिसर इकबाल सिंह का कहना है कि संत कृपालु महाराज हादसे के वक्त वहां मौजूद थे लेकिन इसके दो घंटे बाद ही वह मौके से निकल भागे और उनका कहीं पता नहीं चल रहा है।
प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने इन मौतों पर लोकसभा में शोक जताया और प्रत्येक मृतक के परिजन को दो लाख रुपए का मुआवजा देने की घोषणा की। उन्होंने यह घोषणा भी की कि भगदड़ में गंभीर रूप से घायल लोगों को राष्ट्रीय राहत कोष में से 50,000 रुपए की राशि दी जाएगी। भगदड़ में 28 लोग गंभीर रूप से घायल हुए हैं।
इस बीच, जिलाधिकारी चौब सिंह वर्मा ने बताया कि मनगढ़ के चौकी प्रभारी ने भंडारे के आयोजकों और प्रबंधकों के खिलाफ कुंडा पुलिस थाने में प्राथमिकी दर्ज की है, मगर उसमें किसी व्यक्ति विशेष के नाम का उल्लेख नहीं है। अधिकारियों ने कहा कि सभी मृतकों की शिनाख्त हो चुकी है और पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों के सुपुर्द कर दिए गए हैं। प्रशासन ने शहर के विभिन्न घाटों पर मृतकों के दाह संस्कार के लिए व्यवस्था की।
उधर, कल के हादसे के बाद आज आश्रम में सन्नाटा छाया हुआ है। हालात काबू में रखने के लिए वहां बड़ी संख्या में पुलिसकर्मी तैनात हैं। हजारों लोगों की भीड़ जुटाने वाले इस भंडारे के आयोजन के लिए जिला प्रशासन से अनुमति ली गई थी या नहीं, इस बारे में पुलिस और आश्रम प्रशासन की तरफ से परस्पर विरोधी दावे किए जा रहे हैं। जिला पुलिस अधीक्षक मिश्रा ने कहा कि भंडारे के आयोजन के लिए जिला प्रशासन से कोई अनुमति नहीं मांगी गई, जबकि आश्रम प्रभारी रजनीश पुरी ने दावा किया कि जिला प्रशासन को भंडारे के आयोजन के बारे में 25 फरवरी को ही सूचित कर दिया गया था, लेकिन इसके बावजूद जिला प्रशासन ने कोई व्यवस्था नहीं की। राज्य सरकार ने इस हादसे के लिए आश्रम प्रबंधन को ही जिम्मेदार ठहराते हुए कहा कि स्थानीय प्रशासन को इतने बड़े आयोजन के बारे में कभी जानकारी नहीं दी गई।
बहरहाल, स्थानीय विधायक रघुराज प्रताप सिंह उर्फ राजा भैया ने इस दावे को खारिज करते हुए कहा कि प्रतापगढ़ में हर कोई इस बात से अवगत है कि इस तरह का आयोजन यहां इस दिन को होता है।  नि:शुल्क खाना खाने, स्टील की एक प्लेट लेने, 10 रुपए प्राप्त करने और एक लड्डू तथा रूमाल लेने के लिए इस आश्रम में करीब 10,000 लोगों के जुटने के बाद यह भगदड़ मची। वैसे, कल से आज तक लगभग 50 परिवार हादसे में लापता अपने बच्चों और परिवार की महिलाओं की तलाश में वहां पहुंच चुके हैं। प्रशासन ने शहर के विभिन्न घाटों पर मृतकों के दाह संस्कार के लिए व्यवस्था की।


Comments Off on भगदड़ हादसे के बाद कृपालु महाराज लापता
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.