पराली से धुआं नहीं अब बिजली बनेगी !    विवाद : पत्नी को पीट कर मार डाला !    हरियाणा : कांग्रेस पहुंची चुनाव आयोग !    बाबर की ऐतिहासिक भूल सुधारने की जरूरत : हिन्दू पक्ष !    आतंकियों की घुसपैठ कराने की कोशिश में पाकिस्तान !    आस्ट्रेलियाई महिला टी20 टीम को पुरुष टीम के बराबर मिलेगी इनामी राशि !    पनामा लीक : दिल्ली हाईकोर्ट ने मांगी स्टेटस रिपोर्ट !    हादसे में परिवार के 3 सदस्यों समेत 5 की मौत !    पुलिस स्टेट नहीं बन रहा हांगकांग : कैरी लैम !    प्रदर्शन के बाद खाताधारक की हार्ट अटैक से मौत !    

आपके पत्र

Posted On March - 11 - 2010

सहयोग की भावना

नीरज, यमुनानगर
विश्वनाथ सचदेव जी का लेख ‘नक्शे नहीं बांट सकते साझी संस्कृति’ (22 फरवरी) अहिंसा व शांति का संदेश लिए हुए था। पाकिस्तानी रचनाकार इंतजार हुसैन का यह कथन कि मुल्क भले ही बंट गया हो पर हम नहीं बंटे, सत्य है। लेख का यह कथन एकदम सटीक है कि सह-अस्तित्व की भावना दोनों देशों की जरूरत है। अकेले हाथ से ताली नहीं बजती। हाल ही में 26/11 के हमलों में पाक द्वारा आतंकवाद के विरुद्ध कोई कार्रवाई न करने का असर खेल पर भी रहा। खेल तो कटुता की भावना को कम करने व बढ़ती दूरियों को समीप लाने का बेजोड़ स्रोत है। पाक को भी मधुर संबंध बनाने के लिए सहयोग की भावना विकसित करनी चाहिए।

प्रसूति अवकाश

हरिओम मित्तल, गुडग़ांव
संगठित कर्मचारी संघ के चलते समस्त महिला कर्मियों को प्रसूति अवकाश स्वागत योग्य है। हरियाणा सरकार धन्यवाद की पात्र है क्योंकि उसने जीवन में दो बार प्रति बच्चा   पालन हेतु एक वर्ष के अवकाश की घोषणा की है। यह सुविधा देश में बाकी महिलाओं गरीब मजदूरी-दिहाड़ी, घरेलू नौकरानी, बर्तन-भांडे सफाई वाले वर्ग को क्यों नहीं? क्या असंगठित होना ही इनकी अनदेखी का कारण है? सबसे ज्यादा उत्पीडऩ इन महिलाओं का गर्भावस्था में ही होता है। ऐसी स्थिति में काम न करने के कारण बेरोजगारी की स्थिति में जच्चा और बच्चे को समुचित खुराक नहीं मिल पाती और कुपोषण के कारण जान खतरे में रहती है। अत: सरकार को समाज भलाई सिद्धांत के चलते छह महीने पहले दो बच्चों की प्रसूति पर न्यूनतम वेतन की तर्ज पर सहायता मिलनी चाहिए।

कठोरता की आवश्यकता

सोहनलाल सिखवाल, इंदौर
भारत ने पाकिस्तान को एक बार फिर से याद दिलाया है कि उसने मुंबई हमले के गुनहगारों को अभी तक सजा नहीं दिलवाई है। इस पर पाक फिलहाल तो भारत को कार्रवाई करने का आश्वासन दे रहा है लेकिन जैसे-जैसे उस पर दबाव बढ़ेगा तो वह जल्द ही उन सभी विवादित मुद्दों पर पुन: लौट आएगा जिनका आतंकवाद से  कोई भी संबंध नहीं है। कई बार तो ऐसा लगता है कि पाकिस्तान बातचीत की मेज पर नहीं बल्कि किसी कुश्ती के अखाड़े में उतर रहा है। यदि आज पाकिस्तान बातचीत के नाम पर केवल उलझना चाहता है तो फिर भारत को भी अपना रुख सख्त किए जाने की आवश्यकता है।

नुकसान की भरपाई

ओ.पी.कौशिक, ढकौली
पिछले दिनोंं पंजाब, हरियाणा व राजस्थान मेें व्यापक आगजनी व सार्वजनिक संपत्ति के करोड़ों के नुकसान से स्पष्ट है कि ऐसे लोग असभ्यता की सारी हदें कभी भी पार कर सकते हैं। कानून, लोकतंत्र व संविधान का उन्हें डर नहीं है। वाकई ऐसे लोगों से सभ्यता, नैतिकता व विवेक की आशा करना बेइमानी होगा। सार्वजनिक संपत्ति के नुकसान की भरपायी उन्हीं लोगों से करनी चाहिए। उपद्रवियों के खिलाफ कठोरतम कार्रवाई होनी चाहिए ताकि भविष्य में दूसरे लोगों को भी सबक मिल सके।

विश्व पुस्तक मेला

डा. आर.डी. बिबयान
इस वर्ष देश की राजधानी दिल्ली के प्रगति मैदान में विश्व पुस्तक मेला लगा। इस बार इस मेले में हिन्दी पुस्तकों के स्टालों पर सर्वाधिक भीड़ रही। साहित्य-पुस्तकों के अलावा खेलकूद, विज्ञान, समाजशास्त्र तथा अर्थ-प्रबंधन की पुस्तकें भी खूब बिकीं। अकेले हिन्दी साहित्य की दो करोड़ रुपए की पुस्तकें बिकीं। हिन्दी पत्रिकाओं व विशेषांकों की भी मांग रही। पाठकों की मांग रही कि ऐसे मेले प्रत्येक वर्ष लगने चाहिए। वरिष्ठï नागरिकों को सहज-सस्ते टिकट मिलने चाहिए व उनकी सुविधा का  ध्यान रखा जाना चाहिए। पुस्तक मेले पुस्तक संस्कृति को बढ़ावा देने का सर्वोत्तम साधन है। हिन्दी-साहित्य की सर्वाधिक बिक्री ने हिन्दी जगत को नई ऊर्जा प्रदान की है। हिन्दी-प्रेमियों के लिए यह हर्ष का विषय है।

क्रिकेट का दूसरा नाम सचिन

एसएल गौड़, बाहमनी वाला
क्रिकेट व रिकार्ड का दूसरा नाम सचिन माना जाता है। चौबीस फरवरी को ग्वालियर के मैदान में सचिन ने जो कीर्तिमान अपने नाम किया मानो सचिन का यही कार्य बाकी था। वनडे अंतर्राष्टï्रीय क्रिकेट में दोहरा शतक लगाने वाले सचिन के लिए हम भगवान से एक ही दुआ कर सकते हैं कि सचिन टेस्ट क्रिकेट में भी 400 रन बनाए तथा 2011 में होने वाले विश्वकप में भारत को विजेता बनाने का गौरव मिले।  वैसे सचिन की नाबाद यह अनोखी अद्ïभुत पारी क्रिकेट प्रेमियों को ताउम्र याद रहेगी।


Comments Off on आपके पत्र
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
Both comments and pings are currently closed.

Comments are closed.

Powered by : Mediology Software Pvt Ltd.